मेरी मुहब्बत है तू, इंकलाब नहीं !

2
135

 

                                                                               तू   मु ह ब्ब त  है  इं क ला ब   न हीं
                                                                               स च   ड रा ता  है  ख्वा ब   न हीं !!

                                                                               चा हा  तु झ को  है  आ स मा नों   त क
                                                                               यूँ  जु स्त जू  का  कु छ  हि सा ब  न हीं !!

                                                                              उ दा स  दे खे  हैं  अं धे रों  में  च रा ग
                                                                              रौ श नी  है  मे री  तू  च रा ग  न हीं !!

                                                                              रा ग  बै रा गी  है  ये  स रा ये  फा नी
                                                                              इ बा द त  है  उ ल्फ त  वि रा ग  न हीं !!

                                                                              आँ खें  ते री  हैं  ख्वा ब  मे रे  हैं
                                                                              मे री  नीं दों  से  अ ब  तू  जा ग  न हीं !!

                                                                              तू  मु ह ब्ब त  है  इं क ला ब  न हीं
                                                                              स च  ड रा ता  है  ख्वा ब  न हीं !!

                                                                              (पारिजात त्रिपाठी)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here