मुहब्बत क्या हुई जैसे इबादत होती जाती है!

ये ग़ज़ल के अशआर में भिगोये हुए रुमानी जज़्बात..हर शख्स की ज़िन्दगी में किसी मुहब्बत की याद दिलाते हैं..चाहे वो मिला हो ..या खो गया हो..

2
135
मुहब्बत क्या हुई  जैसे  इबादत होती जाती है
कि सजदे में झुकने की आदत होती जाती है !
चलाओ तीर कितने भी सितम चाहे करो जितने
जो उल्फत हो गई इक बार तो बस होती जाती है !
वृहद सरिता  प्रेम मेरा लहर सा इश्क़ है तेरा
जो उतरोगे तले इसके कयामत होती जाती है !
मैं मुजरिम हूँ करो पेशी मेरी इश्क़ ए अयानत  में
किया है जुर्म उल्फत का ये तोहमत होती जाती है !
है गर एहसां मुहब्बत जो नही लेना,नही  देना
मिले दिलबर कोई सच्चा ये नेमत्त होती जाती है!
किसी के वास्ते जीना सबब हो  इश्क़ का “अँजू”
चले जो इस डगर मरने की चाहत होती जाती है !

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here