लोकसभा चुनाव में बिहार में फीका रहेगा महागठबंधन का प्रचार क्योंकि लालू को नहीं मिली बेल

0
430

बिहार के पूर्व सीएम और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव लोकसभा चुनाव में आरजेडी के लिए प्रचार नहीं कर सकेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने लालू की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है. खराब स्वास्थ का हवाला देते हुए सुप्रीम कोर्ट से लालू के इलाज के लिए जमानत की अपील की गई थी. लेकिन सीबीआई ने जमानत का ये कह कर विरोध किया था कि लालू जेल से बाहर आने के बाद राजनीति करेंगे. सीबीआई ने कहा था कि लालू लोकसभा चुनाव की वजह से जमानत मांग रहे हैं और मेडिकल आधार पर जमानत मांग कर कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं.

चारा घोटाले के मामले में लालू यादव रांची जेल में हैं. उनके जेल में रहने से बिहार में पार्टी की स्थिति बेहद नाजुक दौर से गुजर रही है. लालू के बिना परिवार में भी दोनों भाइयों के बीच राजनीतिक विरोध खुल कर सामने आ चुका है. बड़े बेट तेजप्रताप यादव ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी है और लालू-राबड़ी मोर्चा बनाकर आरजेडी में तूफान खड़ा कर दिया है.

वहीं दूसरी तरफ राज्य में एनडीए मजबूत होती जा रही है. आरजेडी और कांग्रेस समेत दूसरी पार्टियों के महागठबंधन में लालू की कमी महसूस की जा रही है. लालू अपने दम पर बिहार की राजनीति का नक्शा बदलने के लिए जाने जाते हैं. बिहार की जनता के साथ कनेक्ट करने का लालू का हुनर ही उन्हें बिहार की सत्ता का एकछत्र किंग बना गया था.

अब बिहार में चुनाव में लालू का तिलिस्म नहीं दिखाई दे रहा है क्योंकि चुनावी मंच पर लालू यादव मौजूद नहीं हैं. बिहार की जनता की नव्ज़ को अच्छे से टटोलने वाले लालू पहली दफे लोकसभा चुनाव में जेल में रहेंगे और ये ही पार्टी और परिवार के लिए सबसे मुश्किल समय है.

सुप्रीम कोर्ट ने लालू को मेडिकल आधार पर जमानत न देकर बड़ा झटका दिया है. अब लालू यादव को जेल में ही रह कर लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों को सुनेंगे. आरजेडी के सांसद मनोज झा ने कहा कि वो कोर्ट के फैसले सम्मान करते हैं लेकिन फिर भी कहेंगे कि लालू को इस वक्त बेहतर इलाज की जरूरत है.

(न्यूज़ इन्डिया ग्लोबल डेस्क)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here