वसंत पंचमी और वीर हकीकत राय

    0
    1966

    वसंत पंचमी का इतिहास भी जानिए,पढ़िए जरूर..

    दस वर्ष का एक हिन्दू खत्री बालक हकीकत राय फारसी पढ़ने मदरसे जाया करता था। वह कुशाग्र बुद्धि भी था और पारिवारिक संस्कारों के चलते अपने धर्म को लेकर सजग भी। खेलते समय उसके मुस्लिम सहपाठियों ने हिन्दुओं की आराध्या देवी दुर्गा का बारम्बार उपहास किया। हकीकत राय के प्रतिवाद करने पर यह बात और अधिक बढ़ी तो हकीकत राय ने तर्क दिया कि ऐसी ही बदजुबानी यदि मुस्लिमों के पैगम्बर की बेटी फातिमा के बारे में की जाए तो कैसा लगेगा?

    सत्रहवीं सदी, मुगलों का शासन और जनसँख्या में मुस्लिमों की बहुलता होना इस प्रतिप्रश्न को इस्लाम पर हमला सिद्ध करने के लिए पर्याप्त अनुकूल परिस्थितियाँ थीं। बात मदरसे के उस्ताद से होती हुई शहर काजी तक पहुँची। हकीकत राय को दोषी पाया ही जाना था, दोषी पाया गया। चिरपरिचित दो विकल्प देने की उदारता दिखाई गई.

    • १. इस्लाम कुबूल करो और जीवित रहो
      या
      २. सिर कलम होगा।

    हकीकत राय के परिवार में हाहाकार मच गया, कहा जाता है कि पुत्रमोह में माँ-बाप कमजोर पड़े भी कि मुसलमान बनकर ही सही किन्तु जीवित तो रहोगे पर दस वर्ष का वह बालक धर्म से नहीं डिगा। इस्लाम की तौहीन के इल्जाम में दस वर्षीय हकीकत राय का सिर कलम कर दिया गया और इस प्रकार इस्लाम की शान बरकरार रखी गई।

    वो दिन जब वीर हकीकत राय का बलिदान हुआ, बसन्त पंचमी का ही दिन था। अविभाजित भारत के लाहौर में बसन्त पंचमी के दिन वीर हकीकत राय की याद में एक मेला लगा करता था, विभाजन के बाद भारत के पंजाब में कई स्थानों पर अब भी वीर बालक को याद किया जाता है। एक बात और, एक कॉलोनी या बसावट हकीकत नगर के नाम से लगभग हर उस शहर में मिलेगी जिसमें पाकिस्तान से विस्थापित होकर आए लोग अधिक संख्या में बसे थे और अपने इतिहास को याद रखने का यह उनका एक अनकहा प्रयास था।

    वर्तमान के एक स्थापित सेक्यूलर पत्रकार शिरोमणि ने अपने कार्यक्रम में पूछा था, “क्या हो जाएगा यदि भारत में मुस्लिम बहुसंख्यक हो जाएंगे? कम से कम इंसानियत तो जिंदा रहेगी न?”

    यह उदाहरण उसको उत्तर के रूप में दिया जा सकता था किंतु जिन्हें आँखों के सामने के प्रशांत पुजारी और रामालिंगम नहीं दिखते, उन्हें तीन सौ वर्ष पहले का हकीकत राय कैसे दिखता?

    आज के कथित सेक्यूलर वही हैं जो अपने ऐन्द्रिक स्वादों और भौतिक स्वार्थों की पूर्ति करने के लिए स्वधर्म, निज अराध्यों, स्वजनों का अपमान करते हुए धरती का बोझ बने रहने को ही इंसानियत का जिंदा रहना मानते हैं।

    ब्लॉग समय में एक मित्र बहुत व्यथित थे कि हकीकत राय को लोग भूल गए, मैंने कह दिया कि न भूला हूँ और न भूलने दूँगा। बसन्त पंचमी आती है तो मैं चाहे एक को ही याद दिला पाऊँ किन्तु वीर हकीकत राय के बलिदान को याद अवश्य करता हूँ और ऐसा मैं अकेला नहीं हूँ। मुझे भी आश्चर्य हुआ था जब यूट्यूब पर हकीकत राय पर बनी हरियाणवी रागिनी और फिल्में भी दिखीं।

    आप सबको बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनायेँ।

    (साभार)

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here