सांस्कृतिक कुंभ – कला उत्सव : दिवस-20 : 6 फरवरी 2019

0
620

पृथ्वी के सबसे बड़े धार्मिक जलसे कुम्भ में इस बार मौनी अमावस्या के अवसर पर एक साथ साढ़े तीन करोड़ श्रद्धालुओं के आगमन और गंगा स्नान से बने विश्वकीर्तिमान ने एक बार फिर भारत के धार्मिक एवं सांस्कृतिक गौरव को उन्नत किया है.

कुम्भ इस बार धर्म के साथ ही संस्कृति के गरिमामय स्वरुप का भी प्रतिबिम्ब बना हुआ है और इस का श्रेय निस्संदेह उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग को जाता है जिसके विशेष प्रयत्नों से कुम्भ परिसर सहित प्रयागराज शहर में भी सांस्कृतिक मन्च तैयार किये गये हैं. इन मन्चों पर रोज की तरह आज भी सांस्कृतिक गतिविधियाँ जारी रहीं.

सेक्टर 1 स्थित गंगा मंच पर आज मुंबई के प्रसिद्ध कबीरा बैंड द्वारा महान संत कबीर के दोहों को गीतों में ढाल कर सांस्कृतिक प्रस्तुति के रूप में मंचित किया गया. दर्शकों ने इस अद्भुत प्रस्तुति का तालियों से स्वागत किया.

सेक्टर ४ के अक्षयवट मंच पर आज दिल्ली की कलाकार कविता ठाकुर का विशेष गंगा बैले नृत्य प्रस्तुत हुआ. उनके बाद लखनऊ के एसपी चौहान का भोजपुरी कार्यक्रम देखा गया. दर्शकों ने वाराणसी के कलाकार विशाल कृष्णा का अमृत कुम्भ कत्थक बैले की नृत्य प्रस्तुति देखी. कत्थक बैले के बाद नेपाल की रामलीला का मंचन किया जो कुम्भ के श्रद्धालुओं के लिए विशेष तौर पर जनकपुर धाम रामलीला समिति (नेपाल) के कलाकारों ने तैयार किया है. धार्मिक भावनाओं से ओतप्रोत आगंतुकों से इस प्रस्तुति को हार्दिक सराहना प्राप्त हुई.

सेक्टर 6 के भारद्वाज मंच पर आज वाराणसी के संगीतज्ञ ध्रुव मिश्र के सितार वादन की प्रस्तुति हुई. दिल्ली की कलाकार देवयानी का भरतनाट्यम नृत्य प्रस्तुत हुआ. लखनऊ के अवध फोक आर्ट ग्रुप ने लोक गायन प्रस्तुत किया. जिसके पश्चात गोरखपुर के मनोज मिहिर के भोजपुरी कार्यक्रम ने जम कर दर्शकों की वाहवाही लूटी.

सेक्टर 17 के यमुना मंच पर आज लखनऊ की कलाकार माधुरी वर्मा ने अवधि लोकगायन. उनके बाद जौनपुर के फौजदार सिंह के आल्हा गायन ने जैसे माहौल में जान डाल दी. लखनऊ के गायक डॉक्टर हरिओम ने मधुर भजन प्रस्तुत किये. उनके भजनों के बाद मथुरा के राजेश शर्मा के ब्रज – लोकनृत्य ने तो वास्तव में दर्शकों का मन मोह लिया.

सेक्टर 13 के सरस्वती मंच पर उत्तरप्रदेश के कलाकार धनु लाल गौतम ने लोक गायन प्रस्तुत किया. इस लोक गायन के बाद उत्तर प्रदेश के ही डॉक्टर गोपाल मिश्र का भोजपुरी गायन भी प्रस्तुत हुआ. फिर लोकप्रिय भजन गायक विशेष नारायण के भजनों ने दर्शकों में धार्मिक भाव का संचार किया. भजनों के बाद प्रयागराज की गायिका रागिनी चंद्रा ने कजरी राग गायन प्रस्तुत किया. फिर गोरखपुर की संस्था दर्पण द्वारा प्रस्तुत नाटक – रश्मिरथी ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

प्रयागराज के सांस्कृतिक मंचों पर आज हुए कार्यक्रमों का दर्शकों द्वारा जोरदार स्वागत हुआ. किला चौराहे, अक्षयवट मंच के निकट और भारद्वाज मंच के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज बिहार के जादूगर अमन कुमार निषाद ने जादू का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. वहीं लखनऊ की दिव्य सांस्कृतिक, शैक्षिक एवं सामाजिक संस्था द्वारा लोकनृत्य की प्रस्तुति की गई.

केपी इंटर कॉलेज, लेप्रोसी मिशन चौराहे और हाथी पार्क के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ के अंकित कुमार श्रीवास्तव ने मैजिक शो प्रस्तुत किया. इनके बाद प्रयागराज के राधेश्याम कुशवाहा ने लोकनृत्य प्रस्तुत करके दर्शकों की वाहवाही लूटी.

संस्कृति ग्राम चौराहे, अरैल सेक्टर 19 कला-मंच और वल्लभाचार्य मोड़ के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज मध्यप्रदेश के कलाकार धनेश परस्ते ने लोकनृत्य का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. उनके उपरान्त प्रयागराज के जयप्रकाश पटेल ने अवधी लोक गायन का कार्यक्रम प्रस्तुत करके दर्शकों का मन मोह लिया.

बैंक चौराहे, सिविल लाइंस बस स्टॉप और पत्थर वाले चर्च के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज प्रयागराज की संस्था कॉमन्स ने एक नाटक का मंचन किया. वहीं लखनऊ के कलाकार विद्याभूषण सोनी और उनके साथियों ने लोक नृत्य की सुन्दर प्रस्तुति द्वारा दर्शकों का दिल जीत लिया.

बालसन चौराहे, इंद्रमूर्ति चौराहे और सुभाष चौराहे के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज सुल्तानपुर के दया शंकर मिश्र ने आल्हा गायन की प्रस्तुति दी. वहीं सोनभद्र के कलाकार निद्धिनाथ ने लोक नृत्य प्रस्तुत कर के महफ़िल लूट ली.

विश्वविद्यालय तिराहे और राजापुर ट्रैफिक चौराहे के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज संत रविदास नगर के गुलाब चंद्र विश्वकर्मा ने लोकनृत्य प्रस्तुत किया. उनके बाद देवरिया के लोक-कलाकार रामरतन ने लोक गीत की मधुर प्रस्तुति से समा बाँध दिया.

हीरालाल हलवाई चौराहा, सरस्वती घाट-नैनी ब्रिज और प्रयागराज जंक्शन के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ की कलाकार रिंकी विश्वकर्मा ने लोकनृत्य प्रस्तुत किया. उनके बाद सागर (मध्यप्रदेश) के रहने वाले लोक-कलाकार रामदास ने लोकनृत्य प्रस्तुत किया जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया. प्रयागराज से न्यूज़ इन्डिया ग्लोबल के लिये पारिजात त्रिपाठी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here