Aryan Khan Drugs Case:  आर्यन खान के मामले में गवाह के NCB पर गंभीर आरोप, 18 करोड़ में डील का दावा, वानखेड़े ने कहा – आरोप बेबुनियाद

0
34
किरण गोसावी और आर्यन खान File Pic

Cruise Drugs Case:  क्रूज ड्रग्‍स पार्टी केस (Cruise Drugs Party Case) में शाहरुख खान (Shahrukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) की गिरफ्तारी के मामले में नया मोड़ आ गया है. एनसीबी की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए इस मामले के मुख्य गवाह के बॉडीगार्ड ने चौंकाने वाले दावे किए हैं. खुद को इस केस से जुड़े शख्‍स केपी गोसावी (KP Gosavi) का बॉडीगार्ड बताने वाले प्रभाकर सेल ने एनसीबी के जोनल डायरेक्‍टर समीर वानखेड़े पर गोसावी से करोड़ों की डील करने के आरोप लगाए हैं.

कौन है प्राइवेट डिटेक्टिव केपी गोसावी?

आर्यन की क्रूज़ केस में गिरफ्तारी के वक्त एक फोटो बड़ी तेजी से वायरल हुई थी. उस फोटो में आर्यन खान एक शख्स के साथ सेल्फी में मौजूद थे. उसी शख्स का नाम केपी गोसावी है जो कि प्राइवेट डिटेक्टिव है और क्रूज़ में एनसीबी की कार्रवाई के दौरान मौजूद था. गोसावी रेव पार्टी में पकड़े गए आर्यन खान को लेकर NCB ऑफिस में जाते दिखाई भी दिए थे. वो इस मामले के मुख्य गवाह हैं.

बॉडीगार्ड प्रभाकर सेल का बड़ा दावा

केपी गोसावी का ही बॉडीगार्ड प्रभाकर सेल ये आरोप लगा रहा है कि एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े को 8 करोड़ रुपये दिए गए हैं. प्रभाकर सेल ने खुद को गवाह बताते हुए ये दावा किया है कि उसने केपी गोसावी और किसी सैम डिसूजा के बीच 18 करोड़ रुपये की डील की बात सुनी थी. जिसमें से 8 करोड़ रुपये एनसीबी के जोनल डायरेक्‍टर समीर वानखेड़े को दिए जाने थे. उसने यह भी दावा किया है कि उसने केपी गोसावी से रुपये लेकर सैम डिसूजा तक पहुंचाए थे.

कौन है गवाह प्रभाकर सईल?

आर्यन खान केस में बड़ा साखुला करने वाले शख्स का पूरा नाम प्रभाकर राघोजी सैल है. सैल 22 जुलाई 2021 से केपी गोसावी का बॉडीगार्ड है. एनसीबी ने 6 अक्‍टूबर को की गई प्रेस रिलीज में इसे गवाह के तौर पर पेश किया था. प्रभाकर राघोजी सैल इस मामले में पंचनामे पर दस्तखत करने वालों में से एक है. प्रभाकर सेल ने NCB पर आरोप लगाया है कि उनसे पंचनाम के दौरान खाली पेपरों पर जबरन दस्तख़त कराए गए.

कहां लापता है प्राइवेट जासूस केपी गोसावी?

गवाह प्रभाकर सेल ने एक बड़ा गंभीर आरोप लगाया है कि केपी गोसावी लापता है. उसका कहना है कि उसे केपी गोसावी की जान को खतरा होने की आशंका है. इसलिए उसने यह हलफनामा दाखिल किया है. प्रभाकर के बयान के अनुसार, 2 अक्टूबर को जब NCB ने रेव पार्टी पर रेड की थी, तब वह केपी गोसावी के साथ ही था और गोसावी के कहने पर ही वो गवाह बना था.

प्रभाकर का आरोप कि NCB ने खाली पेपर पर कराए दस्तख़त

प्रभाकर ने आरोप लगाया कि NCB के दफ्तर में पंचनामा पेपर बताकर उससे खाली कागज पर ज़बर्दस्ती साइन लिए गए. प्रभाकर का कहना है कि इस घटना के बाद से जब से केपी गोसावी रहस्यमय तरीके से गायब हो गए हैं तब से उनकी जान को खतरा है.

प्रभाकर के दावे में सैम डिसूजा और शाहरूख की मैनेजर पूजा डडलानी

प्रभाकर ने अपने हलफनामे में सैम डिसूजा नाम के एक शख्स का भी जिक्र किया है. प्रभाकर के मुताबिक सैम डिसूजा से उनकी मुलाकात एनसीबी दफ्तर के बाहर ही हुई थी. उस वक्त वह केपी गोसावी से मिलने पहुंचे थे. दोनों एनसीबी दफ्तर से लोअर परेल के पास बिग बाजार के पास अपनी अपनी कार में पहुंचे थे. हलफनामे में दावा किया गया है कि गोसावी और सैम डिसूजा के बीच 25 करोड़ रुपये में डील करने की बात शुरू हुई थी जो कि 18 करोड़ रुपये में तय हुई. डील के मुताबिक 8 करोड़ रुपये एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े को देना तय हुआ था. प्रभाकर के मुताबिक इसके बाद एक नीले कलर की मर्सिडीज कार लोअर परेल पहुंचती है जिसमें शाहरुख खान की सेक्रेटरी पूजा डडलानी सवार होती हैं. कार में ही केपी गोसावी, सैम डिसूजा और पूजा डडलानी के साथ मीटिंग करते हैं.

NCB ने आरोपों का खंडन किया

एनसीबी का कहना है कि ये सभी आरोप बेबुनियाद हैं. अफसरों का यहां तक कहना है कि वे 2 अक्‍टूबर से पहले प्रभाकर सेल को जानते तक नहीं थे. सूत्रों ने कहा कि उसका यह हलफनामा एनडीपीएस कोर्ट पहुंचाया जाएगा. एनसीबी भी वहां अपनी प्रतिक्रिया देगी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here