दिलवालों की दिल्ली में बिजली हुई सस्ती तो ‘लड़खड़ा’ सकते हैं दारू के दाम

सीएम केजरीवाल ने कहा कि देश का कोई भी ऐसा राज्य नहीं है जहां बिजली के बिल लगातार नहीं बढ़ रहे हों, लेकिन दिल्ली में बिल लगातार कम हो रहे हैं. बिजली कंपनियों के घाटे भी तेजी के साथ कम हो रहे हैं.

0
669

दिल्ली में रहने वालों की मौजा के दिन आ गए हैं. पहले पानी फ्री तो अब बिजली भी फ्री. केजरीवाल सरकार ने दिल्ली की राहत की सौगात देते हुए 200 यूनिट बिजली फ्री कर दी है. दिल्ली सरकार के इस ऐलान के बाद अब बिजली की दरें देशभर में सबसे सस्ती हो गई हैं. साथ ही 200 यूनिट से ऊपर बिजली खर्च करने पर सब्सिडी भी मिलेगी. ऐसे में कभी खराब मीटरों और लोड शेडिंग की वजह से बिजली की तरसने वाली और भारी-भरकम बिलों से किलसने वाली दिल्ली को मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बड़ा तोहफा दे दिया है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि जब उनकी सरकार सत्ता में आई थी तब उस दौरान बिजली वितरण कंपनियों की आर्थिक हालत खस्ता थी और वो बिजली सप्लाई के लिए नकदी के संकट से जूझ रही थीं. उन्होंने कहा कि कभी हालात ऐसे थे कि बिजली कंपनियों के पास एक दिन की भी बिजली खरीदने के लिए पैसे नहीं थे लेकिन अब बिजली कंपनियां फ्री बिजली देने में सक्षम हो गई हैं.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि देश का कोई भी ऐसा राज्य नहीं है जहां बिजली के बिल लगातार नहीं बढ़ रहे हों, लेकिन दिल्ली में बिल लगातार कम हो रहे हैं. बिजली कंपनियों के घाटे भी तेजी के साथ कम हो रहे हैं.

तो अब दिल्ली में 200 यूनिट तक बिजली खर्च करने वालों का बिल पूरी तरह माफ. लेकिन अगर आप 201 यूनिट इस्तेमाल करते हैं तो आपको पूरा बिल अदा करना होगा. 201 से 400 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल करने पर उसमें उपभोक्ता को 50 फीसदी की सब्सिडी मिलेगी. लेकिन 200 यूनिट का फायदा नहीं मिलेगा. केजरीवाल सरकार की ये योजना 1 अगस्त से प्रभावी हो गई है.

दिल्ली में गिरेंगे शराब के दाम

बात सिर्फ बिजली तक नहीं बल्कि आबकारी नीति में बदलाव की भी है. दिल्ली सरकार ने अंग्रेजी पीने के शौकीनों के लिए दाम करने का जाम दिखाया है. जॉनी वाकर, ब्लैक लेबल, सिंगल माल्ट, शिवास रीगल और जैक डेनियल्स जैसे विदेशी ब्रांड की कीमत कम हो सकती है. नई आबकारी नीति के तहत आयातकों को ये बता दिया गया है कि दूसरे राज्यों में बिक रहे थोक दाम के बराबर ही दिल्ली में भी इन विदेशी ब्रांड को बेचना होगा.

दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति 16 अगस्त से लागू होगी. हालांकि यह प्रभाव आयातक के लाइसेंस के दोबारा आवेदन करने तक ही प्रभावी रहेगा. सरकार का मानना है कि इससे दूसरे  राज्यों से होने वाली शराब की तस्करी पर पाबंदी लगाने में कामयाबी मिलेगी. आबकारी विभाग का मानना है कि दिल्ली में शराब की बिक्री गुरूग्राम और फरीदाबाद की वजह से प्रभावित होती है जहां कि विदेशी ब्रांड काफी कम भाव में मिलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here