ट्रंप के खिलाफ इराक ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट, US मीडिया ने बताया अमेरिकी लोकतंत्र के लिए खतरा

0
302
Courtesy - CNN

अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. एक तरफ कैपिटल हिल बिल्डिंग (Capitol Hill) हिंसा के लिए उन्हें पूरी तरह जिम्मेदार ठहराते हुए उनके खिलाफ़ महाभियोग लाने की मांग की जा रही है तो दूसरी तरफ इराक (Iraq) की एक अदालत ने ट्रंप के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.

अमेरिका के ड्रोन हमले में ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी और अबू माहदी अल मुहंदिस के मारे जाने के मामले में बगदाद की जांच अदालत ने ये वारंट जारी किया है. पिछले साल जनवरी में बगदाद हवाईअड्डे के बाहर सुलेमानी और मुहंदिस ड्रोन हमले में मारे गए थे. जिसके बाद ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामेनी ने उन्हें शहीद करार देते हुए अमेरिका से बदला लेने की बात की थी.

डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की दावेदारी से सुलगती कैपिटल हिल बिल्डिंग (Capitol Building) की हिंसा के बीच अमेरिकी कांग्रेस ने डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन (Jo Biden) की जीत पर संवैधानिक मुहर लगा दी है. बाइडन  के प्रेजिडेंट इलेक्ट चुने जाने पर संवैधानिक मुहर लगने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी हार कबूल कर ली है. ट्रंप ने बयान जारी कर कहा कि, ‘ये उनके एतिहासिक और पहले राष्ट्रपति कार्यकाल का अंत है. मैं चुनाव के इन नतीजों से पूरी तरह असहमत हूं लेकिन 20 जनवरी को सत्ता का हस्तांतरण सही तरीके से हो जाएगा.’

हालांकि ट्रंप ने इस बयान में भी चुनावों की धांधली से जुड़े अपने आरोपों को फिर से दोहराया. इससे पहले ट्रंप समर्थकों ने कैपिटल हिल बिल्डिंग में घुसकर इलेक्टोरल वोटों की काउंटिंग रोकने की कोशिश की. इस दौरान हुई हिंसा में अभी तक 4 लोग मारे जा चुके हैं.

US मीडिया ने ट्रंप को बताया ख़तरा

कैपिटल हिल बिल्डिंग पर ट्रंप के समर्थकों के हमले के बाद डोनाल्ड ट्रंप अमेरिकी मीडिया के निशाने पर हैं. अमेरिकी मीडिया ने ट्रंप को एक ‘खतरा’ बताते हुए कहा है कि वह व्हाइट हाउस में रहने योग्य नहीं हैं. अमेरिकी मीडिया ने ट्रंप को तत्काल पद से हटाने और उनके खिलाफ महाभियोग प्रक्रिया या आपराधिक मुकदमे के तहत जिम्मेदार ठहराने की मांग की है.

‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने एक संपादकीय का शीर्षक ‘कैपिटल हमले के लिए ट्रंप को दोषी ठहराया जाए’ लगाया है. इस संपादकीय में कहा गया है कि राष्ट्रपति ट्रंप और उनके प्रयासों का समर्थन करने वाले रिपब्लिकन को बुधवार की हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया जाए. ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ ने एक संपादकीय में लिखा कि ट्रंप के उकसाने की वजह से कैपिटल परिसर में हमला हुआ और उन्हें जरूर हटाया जाना चाहिए. संपादकीय में कहा गया है कि चुनावी हार को स्वीकार करने से इनकार करने और लगातार अपने समर्थकों को उकसाने की वजह से बुधवार को हिंसक भीड़ ने कैपिटल बिल्डिंग पर हमला किया. पोस्ट ने संपादकीय में कहा कि राजद्रोह के इस कृत्य के बाद ट्रंप अगले 14 दिन तक कार्यालय में बने रहने के ‘योग्य’ नहीं हैं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here