अरुण जेटली की अंतिम विदाई में आसमान भी रो पड़ा, पंचतत्व में विलीन हुआ पार्थिव शरीर

शनिवार 24 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 7 मिनट पर अरुण जेटली ने अंतिम सांस ली.

0
743

दिल्ली के निगम बोध घाट पर पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) का अंतिम संस्कार कर दिया गया. अरुण जेटली के बेटे रोहन जेटली ने उन्हें मुखाग्नि दी. इस दौरान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद समेत बीजेपी के कई बड़े नेता भावुक नजर आए. वहीं दूसरे राजनीतिक दलों के लोग भी अरुण जेटली के अंतिम संस्कार में शामिल हुए. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और तमाम कांग्रेसी नेता भी मौजूद रहे.

अरुण जेटली (Arun Jaitley) को 9 अगस्त को सांस लेने मे तकलीफ की वजह से दिल्ली के एम्स में भर्ती करवाया गया था. लेकिन अस्पताल में भर्ती होने के बाद उनकी हालत लगातार बिगड़ती चली गई और उन्हें आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखना पड़ा. शनिवार 24 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 7 मिनट पर अरुण जेटली ने अंतिम सांस ली.

अरुण जेटली के निधन पर राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर फैल गई. जेटली के निधन को पक्ष और विपक्ष ने देश और राजनीति की बड़ी क्षति बताया.

विदेश यात्रा में बहरीन पहुंचे पीएम मोदी की आंखें भी भर आईं. पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने एक बहुत अच्छा दोस्त खो दिया.

66 साल के सफर में अरुण जेटली सबका साथ छोड़कर अलविदा कह गए. किसी का दोस्त चला गया किसी के सिर से साया उठ गया तो किसी का मार्गदर्शक, सुखदुख बांटने वाला और भरोसा दिलाने वाला हमदर्द, हमसाया और साथी चला गया. अब यादों में बाकी हैं अरुण जेटली और उनकी वो बातें जो उन्हें एक महान इंसान बताती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here