सादगी से भरी एक ‘मनोहर’ मिसाल थे CM पर्रिकर जो एक ‘फाइटर’ की जिंदगी जिए

    पर्रिकर नहीं रहे लेकिन उनकी जिंदगी के हिस्सों से जुड़ी कहानियां अमर हो चुकी हैं

    0
    889

    सादगी, ईमानदारी, जोश और जज्बे का एक नाम था मनोहर पर्रिकर जिसकी गूंज हमेशा बरकरार रहेगी. चेहरे पर विनम्रता और मुस्कान का भाव लिए एक राजनेता सादगी की ऐसी मिसाल था कि जब वो बतौर सीएम अपने दफ्तर पहुंचते तो लोग हैरानी से भर जाते थे. गोवा के सीएम होने के बावजूद तमाम सरकारी लाव-लश्कर की बजाए मनोहर पर्रिकर एक स्कूटी से दफ्तर जाते थे.

    पर्रिकर नहीं रहे लेकिन उनकी जिंदगी के हिस्सों से जुड़ी कहानियां अमर हो चुकी हैं. निधन से पहले की ये तस्वीर लोगों के जेहन से कभी नहीं उतर सकेगी जिसमें उनके नाक में ड्रिप लगी है और वो कभी सीएम ऑफिस में बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं तो कभी किसी जगह निर्माण कार्य का मुआयना.

    पर्रिकर ने दुनिया को कैंसर से लड़ने का जिंदादिल तरीका सिखाया है. जोश से लबरेज मनोहर पर्रिकर का अंदाज ही कुछ ऐसा था कि जब नरेंद्र मोदी साल 2014 में पीएम बने तो उन्होंने अपनी कैबिनेट में सबसे पहले मनोहर पर्रिकर को रक्षा मंत्री बनाया. पर्रिकर भी देश की रक्षा की खातिर गोवा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर केंद्र की जिम्मेदारी को लेकर आगे बढ़े.

    मनोहर पर्रिकर गोवा के चार बार मुख्यमंत्री रहे. सबसे पहले वो साल 2000 में सीएम बने और फिर वो साल 2002 में दोबारा सीएम बने. फिर तीसरी बार साल 2012 और फिर चौथी बार 14 मार्च 2017 को गोवा के मुख्यमंत्री बने. पणजी विधानसभा सीट से पर्रिकर पहली दफे साल 1994 में विधायक चुने गए थे.

    पर्रिकर एडवास्ड पैंक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे थे इसके बावजूद उनकी काम के प्रति लगन में कोई कमी नहीं थी. किसी फाइटर की तरह वो कैंसर को मात देने में जुटे हुए थे. उनका जीने और कैंसर से  लड़ने का तरीका ही युवाओं के लिए किसी मिसाल से कम नहीं है. पर्रिकर ने ही जब युवाओं से पूछा कि How’s The Josh तो सोशल मीडिया के साथ साथ रोजमर्रा के जीवन में भी उनका ये जोश भरने का अंदाज बेहद चर्चित हतआ.

    गोवा विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष पर्रिकर के हौसले का मुरीद था जिसने उन्हें नाक में ट्यूब डालकर बजट पेश करते हुए देखा और सुना. उस वक्त पर्रिकर ने जो कहा उसे आखिरी सांस तक निभाया भी. पर्रिकर ने कहा था कि मैं अपनी अंतिम सांस तक ईमानदारी, निष्ठा और समर्पण के साथ गोवा की सेवा करूंगा.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here