चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) : चंदा मामा की गोद में सुरक्षित है विक्रम, ऑर्बिटर ने भेजा संदेसा

इसरो के मुताबिक चांद की सतह पर गिरने से विक्रम को चोट नहीं लगी है बल्कि वो सुरक्षित तरीके से लैंड हुआ है और तभी वो टूटा-फूटा नहीं दिखाई दे रहा है.

0
633
Courtesy - Twitter
Courtesy - Twitter

मिशन चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) में आखिरी कुछ पलों की निराशा को उम्मीदों में बदलने का काम कर रहा है ऑर्बिटर.  सबसे पहले ऑर्बिटर ने थर्मल इमेज भेजकर लापता हुए विक्रम (Vikram Lander) का पता-ठिकाना बताया. अब ऑर्बिटर ने इसरो (ISRO) को संदेसा भेजा है कि चांद की सतह (lunar surface) पर विक्रम लैंडर (Vikram Lander) सुरक्षित (safe) दिखाई दे रहा है. इसरो (ISRO) के लिए ये न सिर्फ सबसे बड़ी राहत का संदेसा है बल्कि विक्रम लैंडर (Vikram Lander) से लगातार संपर्क करने की कोशिशों के लिए भी बेहद सकारात्मक संदेश है. ऑर्बिटर की भेजी गई तस्वीर में विक्रम लैंडर एक टुकड़े में यानी साबुत दिखाई दे रहा है जो उसकी सलामती का सबसे पुख्ता सबूत है.

जरूर पढ़ें: Chandrayaan-2: ISRO ने ढूंढ निकाला विक्रम लैंडर, ऑर्बिटर ने भेजी थर्मल तस्वीर

इसरो (ISRO) के मुताबिक चांद की सतह पर गिरने से विक्रम को चोट नहीं लगी है बल्कि वो सुरक्षित तरीके से लैंड हुआ है और तभी वो टूटा-फूटा नहीं दिखाई दे रहा है. अब इसरो (ISRO) लैंडर से किसी भी तरह से संपर्क साधने की कोशिश में दिन-रात जुटा हुआ है. अगले 14 दिन इसरो, मिशन चंद्रयान 2 और विक्रम लैंडर के लिए बेहद ख़ास हैं.

जरूर पढ़ें:चंद्रयान-2: चांद की सतह से विक्रम लैंडर के टकराने की आशंका, नुकसान की चिंता – के सिवन, चीफ, इसरो (ISRO)

हालांकि इससे पहले इसरो मिशन से जुड़े वैज्ञानिक ने आशंका जताई थी कि लैंडर की हार्ड लैंडिंग हुई. वहीं इसरो चीफ के सिवन ने भी विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग पर चिंता जताई थी. जबकि अंतरिक्ष के दूसरे जानकारों का ये मामला था कि विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं हुई और यही वजह थी कि उसका संपर्क टूट गया.

Courtesy-Twitter

अब इसरो लगातार लैंडर के साथ संचार स्थापित करने की कोशिश में जुटा हुआ है. इससे पहले इसरो चीफ के सिवन ने बताया था कि चंद्रयान-2 ऑर्बिटर में लगे कैमरों ने लैंडर की मौजूदगी का पता लगाया. शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात विक्रम की चांद पर लैंडिंग थी लेकिन ये चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग नहीं कर सका था.

बहरहाल, देश का हौसला और शान बढ़ाने वाले मिशन चंद्रयान 2 की सबसे पॉज़िटिव बात ये है कि ऑर्बिटर सही तरीके से काम कर रहा है. ऐसे में तय वक्त में मिशन का 90 से 95 फीसदी लक्ष्य हासिल हो सकेगा. वहीं विक्रम से संपर्क साधने की कोशिशें जारी हैं और ऐसे में करोड़ों देशवासियों का दिल कह रहा है – Get Well Soon विक्रम!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here