देश की जनता को शामिल किया गया है इस संकल्प पत्र में. देश की जनता से सुझाव मांगे गए थे इस संकल्प पत्र के निर्माण के लिए. और आज वह संकल्प पत्र पूर्ण हो गया है और देश के समक्ष उसका अनावरण हो रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, राष्ट्रीय संगठन मंत्री रामलाल, पार्लियामेंट्री बोर्ड प्रतिनिधि थावर सिंह गहलौत मीडिया विभाग के प्रमुख अनिल बलूनी एवं सभी प्रमुख पदाधिकारियों एवं नेताओं की उपस्थिति में पार्टी ने अपने इस ऐतिहासिक संकल्प पत्र का अनावरण किया.

2022 में पचहत्तरवीं सालगिरह तक देश को समस्याओं से समूल मुक्त करने का संकल्प लेकर तैयार किया गया यह संकल्प पत्र न केवल बीजेपी की राष्ट्र सर्वोपरि की सोच को दर्शाता है अपितु एक आम भारतीय के जीवन को भी बेहतर बनाने की दिशा में उसकी दृष्टि को भी प्रस्तुत करता है.

अपने उद्घाटन भाषण में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा के संकल्प पत्र को देश के मन की बात की उपमा दी. शाह ने कहा कि हम 75 संकल्प लेकर जनता के बीच जा रहे हैं.

यह संकल्प पत्र 12 श्रेणियों में बांटा गया है. सबका साथ सबका विकास इस संकल्प पत्र का मूल विषय है जिसे देश के सभी धर्मों और समुदायों के व्यापक हित को नज़र में रख कर तैयार किया गया है जो कि प्रधानमंत्री मोदी की प्रथम प्रतिबद्धता है.

गृहमंत्री राजनाथ ने अपने सम्बोधन में कहा कि यह संकल्प पत्र पिछले पांच वर्षों के कार्यों को आधार बना कर निर्मित किया गया है और यह नए भारत के निर्माण के लिए पार्टी की प्रतिबद्धता के संकल्प का परिचय है.

प्रधानमंत्री मोदी ने संकल्प पत्र पर व्याख्यान देते हुए कहा हमारा यह संकल्प पत्र देश के लिए सुशासन पत्र, देश के लिए सुरक्षा पत्र देश का समृद्धि पत्र भी है. प्रधानमंत्री ने कहा कि यह देश के 75 वर्ष और 75 लक्ष्य इस संकल्प पत्र का मूल मंत्र है.

इक्कीसवीं सदी एशिया की सदी है. एशिया की सदी को भारत लीड करेगा. भारत अपने सौ वर्ष पूर्ण करते समय अपने आपको एक विकासशील देश से एक विकसित देश की यात्रा को भी पूर्ण करेगा और इसका संकल्प रूप में भाजपा का यह संकल्प पत्र सामने आया है.

पिछले पांच वर्षो के कार्यो की प्रगति रिपोर्ट के साथ प्रस्तुत इस संकल्प पत्र के माध्यम से बीजेपी ने राष्ट्रीय सुरक्षा, किसान कल्याण, युवा एवं महिला सशक्तिकरण पर खास जोर दिया है. पार्टी ने जहाँ किसानों और व्यापारियों के लिए पेंशन योजना शुरू करने की बात कही वहीं पार्टी ने दलितों और पिछड़ों को आबादी के आधार पर आरक्षण देने का वादा किया है. देश के प्रमुख मुद्दों को अपना प्रमुख कर्तव्य मानते हुए बीजेपी ने राम मंदिर के शीघ्र निर्माण की बात कही और इस हेतु सभी संभावनाओं पर विचार करके ही राम मंदिर का निर्माण किया जायेगा. ऐसे ही दूसरे अहम मुद्दे धारा 370 पर पार्टी ने अपना संकल्प स्पष्ट किया और इसके खात्मे का वायदा किया.

इस संकल्प पत्र में किसानों और नौजवानों के हितों पर विशेष ध्यान देते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा के विषय को महत्वपूर्ण माना गया है. इसमें साफ तौर पर कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर किसी तरह का समझौता नहीं किये जायेगा. रोजगार एवं स्वरोजगार के व्यापक अवसरों के निर्माण का लक्ष्य रख कर एक तत्सम्बन्धी औपचारिक ढांचा भी इसमें पेश किया गया है. अपने संकल्प पत्र के माध्यम से पार्टी युवाओं और महिलाओं के सशक्तिकरण पर पर खास ध्यान देने का संकल्पित है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here