धार्मिक भावनाएं भड़काने और धर्म के नाम पर वोट मांगने के मामले में यूपी के दो बड़े नेताओं पर चुनाव आयोग का कौड़ा चला है. चुनाव आयोग ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रैली और रोड शो पर 72 घंटे का बैन लगा दिया है जबकि मायावती के रोड शो और रैली पर 48 घंटे की रोक लगाई है.

सहारनपुर के देवबंद में एक चुनावी रैली में मायावती ने मुसलमानों से खुलकर वोट मांगा था. मायावती ने कहा था कि बीजेपी को हराने के लिए मुसलमानों को अपना वोट कांग्रेस के साथ बंटने नहीं देना है. यूपी से बीजेपी को हटाना है तो मुसलमानों को एसपी-बीएसपी को एकतरफा वोटिंग करनी होगी. मायावती इसी बयान की वजह से फंस गई और उन पर चुनाव आयोग ने कड़ी कार्रवाई की और उनके अगले 48 घंटे तक प्रचार से रोक दिया है.

वहीं यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मायावती के बयान पर पलटवार करते हुए कहा था कि,’तुम्हें अली मुबारक हों और हमे बजरंगबली पर भरोसा है. योगी के बयान को चुनाव आयोग ने भड़काऊ मानते हुए 72 घंटे का बैन लगाया है.’

लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान विवादित बयानों पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद चुनाव आयोग ने डंडा चलाया है. चुनाव आयोग की सख्त कार्रवाई अब आजम खान को भी कभी भी निशाने पर ले सकती है. समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने जयाप्रदा के खिलाफ अश्लील टिप्पणी की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here