वाह उस्ताद! मान गए – 12 वीं पास रईस मैकेनिक ने पानी से चला दी कार

मध्यप्रदेश में सागर के रहने वाले रईस मकरानी ने ऐसी कार बनाई जिसे पेट्रोल-डीज़ल और सीएनजी के नखरे उठाने की जरूरत नहीं

0
299
पानी सी चलती है पानी से चलने वाली कार Courtesy -youtube

मोहम्मद रईस पेशे से मैकेनिक हैं. बचपन अपने उस्ताद की शागिर्दगी में गाड़ियों के पेचकस और नट-बोल्ट उठाने से आगे बढ़ा और युवा होते होते अदद मैकेनिक बन गए. पेशा मैकेनिक का ही अख्तियार कर लिया इसलिए पढ़ाई आगे जरूरी नहीं समझी. सिर्फ 12वीं पास का तमगा काफी था. बाकी तो इंजन सुधारने और बंद गाड़ी को स्टार्ट करने की महारथ ने इलाके में मशहूर कर दिया था कि रईस भाई एक से बढ़ कर एक गाड़ी को पटरी पर ले आते हैं. क्या इम्पोर्टेड और क्या विंटेज़ कार. रईस भाई को तो हाथ पड़ते ही इंजन खुद ब खुद स्टार्ट हो जाता है. कारीगरी की यही अदा उन्हें एक नए आविष्कार की तरफ ले चली. ऐसा आविष्कार कर डाला कि अब भारतीय और चीनी कंपनियां भी कह रही हैं कि वाह उस्ताद मान गए.

मध्यप्रदेश में सागर के रहने वाले रईस मकरानी ने ऐसी कार बनाई जिसे पेट्रोल-डीज़ल और सीएनजी के नखरे उठाने की जरूरत नहीं. जी हां. ऐसी कार बना डाली जिसे देख कर नामी वैज्ञानिक या कार कंपनियां भी पानी पानी हो जाएं. दरअसल रईस भाई ने हाथ में पाना ऐसा थामा कि पानी से चलने वाली कार ही बना डाली. गजब है. ये कार ऐसी वैसी नहीं. पानी से चलने वाली कार पानी की ही तरह चलती है. अक्सर मैकेनिकों के दावों में इस तकिया कलाम का इस्तेमाल किया जाता है कि गाड़ी पानी सी चल रही है. शायद इसी से प्रेरणा लेकर रईस भाई ने वो कर डाला जो धूम मचा गया.

चलिए अब मुद्दे पर आते हैं. 44 साल के रईस मकरानी की पानी से चलने वाली कार का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. ऐसे वक्त में ये कार बनी है जब पेट्रोल और डीज़ल की कीमतों में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ मची हुई है. रईस ने अब पानी से चलने वाली कार को पेटेंट करा डाला है. लोग कह रहे हैं कि रईस मैकेनिक के इस पेटेंट के आधार पर चीन की कंपनियां कार बनाया करेंगीं. लेकिन सोशल मीडिया पर ये भी सवाल है कि ऐसा जादुई चिराग़ हाथ लगने के बाद भारत की कार बनाने वाली कंपनियां कहां हैं?

सवाल लाजिमी भी है. महिंद्रा एंड महिंद्रा के मालिक आनंद महिंद्रा हमेशा ऐसे लोगों को प्रोत्साहित करते आए हैं जो ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में कुछ अनोखा करते हैं. उनके ट्वीट हमेशा कुछ अलग ही कहानी बयां करते हैं. आनंद महिंद्रा हमेशा ट्वीट के जरिए लोगों से जुड़े रहते हैं और अक्सर अपने किसी प्रोजेक्ट के लिए सुझाव या नाम भी मांगते हैं. ऐसे में एक सवाल ये भी है कि उन तक ये खबर कैसे नहीं पहुंची?

बहरहाल रईस मैकेनिक की कार की बात अब पूरी कर लेते हैं. रईस ने बताया कि उनकी कार पानी पीने के बाद 60 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ती है. रईस ने 800 सीसी की मारुति कार पर प्रयोग कर उसे वाटर-कार बना डाला है. रईस ने साल 2007 से वाटर-कार बनाने में पसीना पानी की ही तरह बहाया था. साल 2012 तक उन्हें काफी हद तक कामयाबी मिल सकी. पहले इंजन बनाया और फिर इंजन को स्टार्ट कर के ही दम लिया. बताया जाता है कि रईस को दुबई से भी ऑफर मिला है लेकिन उन्होंने मेक इन इंडिया की वजह से विदेशी ऑफर ठुकरा दिया.

रईस की कार में पेट्रोल टैंक की जगह पानी की टंकी लगी हुई है. रईस पानी में कुछ केमिकल मिलाते हैं और उसके बाद पानी ज्वलनशील बन जाता है. इससे एसेटिलिन गैस बनती है जिससे कार रफ्तार पकड़ती है. ये फॉर्मूला भी सीक्रेट है. लेकिन जो सबके सामने साबित हो चुका है वो ये कि पानी से चलने वाली कार आ गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here