महबूबा मुफ्ती की केंद्र को सीधी धमकी: जलकर राख हो जाएंगे 35ए की तरफ उठने वाले हाथ

महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि , '35ए के साथ छेड़छाड़ करना बारूद को हाथ लगाने के बराबर होगा.

0
369

कश्मीर में आर्टिकल 35 ए को लेकर सियासत सुलगती जा रही है. पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि आर्टिकल 35ए की तरह उठने वाले हाथ जलकर राख हो जाएंगे. महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि , ’35ए के साथ छेड़छाड़ करना बारूद को हाथ लगाने के बराबर होगा. जो हाथ 35ए के साथ छेड़छाड़ करने के लिए उठेंगे, वो हाथ ही नहीं बल्कि पूरा जिस्म जलकर राख हो जाएगा.’

दरअसल कश्मीर में केंद सरकार ने अर्द्धसैनिक बलों की 100 अतिरिक्त कंपनियां तैनात करने का फैसला किया है जिसका घाटी में पीडीपी और नैशनल कॉन्फ्रेंस ने कड़ा विरोध किया है. जबकि पंद्रह अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के दिन घाटी में पाक आतंकियों के हमले की साजिश के इनपुट के बाद गृह मंत्रालय ने ये फैसला लिया है.

100 कंपनियों की तैनाती के फैसले पर पूर्व आईएस शाह फैज़ल ने ट्वीट किया था कि क्या कश्मीर में कुछ बड़ा होने वाला है. वहीं महबूबा मुफ्ती ने इससे पहले कहा था कि कश्मीर  एक राजनीतिक समस्या है, जिसका सैन्य तरीके से हल नहीं किया जा सकता है. महबूबा ने ट्वीट किया था कि, ‘अतिरिक्त 10 हजार सैनिकों की तैनाती के फैसले ने घाटी के लोगों में भय का माहौल पैदा कर दिया है और भारत सरकार को अपनी नीति पर पुनर्विचार और सुधार करने की आवश्यकता है.’

घाटी में हाल ही में एनएसए डोवाल सीक्रेट मिशन पर गए थे. उनके कश्मीर से लौटने के बाद ही देश के अलग अलग हिस्सों में तैनात केंद्रीय सुरक्षा बलों को एयरलिफ्ट कर सीधे कश्मीर पहुंचाया जा रहा है. कश्मीर में तैनात होने वाली सुरक्षा बलों की 100 कंपनियों की हर कंपनी में 100 जवान होंगे. गृह मंत्रालय के मुताबिक कंपनियों की तैनाती से कश्मीर में आतंकी नेटवर्क को ध्वस्त करने का अभियान मजबूत होगा और राज्य में कानून-व्यवस्था मजबूत रहेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here