आज शाम 4 बजे पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन, कर सकते हैं बड़ा ऐलान

आज शाम 4 बजे प्रधानमंत्री अपने संबोधन में क्या कर सकते हैं कोई बड़ा ऐलान?

0
138
प्रधानमंत्री पिछले 4 महीने में छठी बार देश को संबोधित करेंगे

जब जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के नाम संबोधन करने वाले होते हैं तो पूरा देश टकटकी लगाए उस वक्त का इंतज़ार करता है क्योंकि पीएम मोदी के किसी बड़े फैसले की गूंज उस संबोधन में छिपी होती है. इतिहास गवाह है कि पीएम मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन में बड़े फैसले होते हैं. आज शाम 4 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करने जा रहे हैं.

इस बार कई सवाल और कयास उठ रहे हैं कि पीएम के संबोधन की दिशा किस तरफ हो सकती है तो विषय क्या हो सकता है? एक तरफ चीन के साथ सरहद पर तनाव तो दूसरी तरफ चीन से निकले कोरोना वायरस से देश में तनावपूर्ण हालात. ऐसे में ये भी संभावना है कि शायद पीएम मोदी अनलॉक 2 का ऐलान कुछ नई बातों के साथ करें. लेकिन राष्ट्र के नाम संबोधन से कुछ घंटे पहले 59 चीनी एप्स को बंद करने के बड़े फैसले के बाद पीएम के संबोधन को सिर्फ कोरोना केंद्रित नहीं माना जा सकता है.

देश की सीमा खासतौर से एलएसी पर संवेदनशील हालात निर्मित हो चुके हैं. दोनों तरफ फौज का जमावड़ा बढ़ता जा रहा है. चीन को उसकी गुस्ताख घुसपैठ और पीठ पर छुरा मारने की प्रवृत्ति को भारतीय सेना करारा जवाब दे चुकी है. लद्दाख और एलएसी से लगे इलाकों में भारतीय सेना ने चीन की ज़बर्दस्त घेराबंदी कर रखी है. चीन के हमले का जवाब देने के लिए न सिर्फ भारतीय फौज के जांबाज़ जवान बल्कि सुखोई, मिग और मिराज़ विमान गर्जना के साथ कोहराम मचाने को तैयार हैं. चीन के हमलों को रोकने के लिए भारतीय अवाक्स सिस्टम एक्टिव किया जा चुका है. सोने पर सुहागा ये है कि भारतीय वायुसेना को मजबूती देने के लिए फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप जुलाई में भारत पहुंच रही है. सीमा पर चीन ने युद्ध जैसे हालात बना रखे है ताकि भारत पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाया जा सके. लेकिन भारत सरकार ने चीन के इस दांव को देखते हुए ऐसा धोबीपाट मारा है कि चीन तिलमिला कर रह गया. भारत ने 59 चीनी एप्स को बंद कर चीन को ये साबित कर दिया कि आरपार की लड़ाई में भारत अब की बार किसी भी धमकी से झुकने और डरने वाला नहीं है. ऐसे में बहुत मुमकिन है कि चीन के साथ बढ़ते तनाव को देखते हुए पीएम मोदी देश को आत्मनिर्भर बनाने वाली बात कह सकते हैं ताकि भारत किसी भी मामले में इस नई सदी में दूसरे देशों पर निर्भर न हो.

हालांकि ये कयास भी हैं कि शायद पीएम मोदी अनलॉक 2 पर भी बात कर सकते हैं. देश में फिलहाल कोरोना के साढ़े पांच लाख से ज्यादा मामले हो चुके हैं. एक जुलाई से अनलॉक (Unlock 2.0) का दूसरा चरण शुरू होने जा रहा है. जिस वजह से पीएम मोदी के संबोधन को इससे भी जोड़ कर देखा जा सकता है.

देश में कोरोना वायरस फैलने के बाद राष्ट्र के नाम पीएम मोदी का ये छठा संबोधन है. पीएम मोदी ने सबसे पहले 19 मार्च को देश में एक दिन के जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था. 24 मार्च को उन्होंने कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया था और कहा था कि जो जहां है वो वहीं रहे. इसके बाद 3 अप्रैल को पीएम मोदी ने एक वीडियो संदेश जारी कर लोगों से दीये जलाने की अपील की थी. फिर 14 अप्रैल को लॉकडाउन के दूसरे चरण की घोषणा की थी. इसके बाद 12 मई को पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था.

अब जबकि चीन के 59 ऐप बंद करने का एक बड़ा फैसला सरकार ले चुकी है ऐसे में मंगलवार को चीन की सेना के कमांडरों के साथ भारतीय सेना के कमांडरों की बैठक के नतीजे भी पीएम मोदी के संबोधन का बड़ा हिस्सा हो सकते हैं. बहरहाल, देश पीएम मोदी के हर फैसले के साथ शिद्दत से खड़ा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here