सऊदी के प्रिंस ने आसमान में वापस छीन लिया अपना जेट, अमेरिका से बैरंग वापस लौटे इमरान खान

प्रिंस ने जब प्लेन वापसी का फरमान जारी किया तब इमरान अपने वज़ीरों के साथ फोकट में मिले प्लेन में दावत उड़ाते-उड़ाते कनाडा पहुंच चुके थे

0
419

पाकिस्तान की बदतर आर्थिक हालत और फटी जेब से बाहर झांकती कंगाली ने एक बार फिर पाकिस्तान के वज़ीरे आज़म इमरान खान की इंटरनेशनल बेइज्जती कराई है. ये बेइज्जती किसी और ने नहीं बल्कि उस मुल्क के प्रिंस ने की है जिसका अब पाकिस्तान से मोह भंग होता दिखा रहा है. दरअसल, पिछले महीने अमेरिका के न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा में शामिल होने के लिए इमरान खान अपने दरबारियों के साथ पहुंचे थे. अमेरिका पहुंचने के लिए इमरान ने सऊदी के प्रिंस को पाकिस्तान की बरसों पुरानी दोस्ती का हवाला देकर उधारी में प्लेन मांगा था. लेकिन यही प्लेन अब इज्जत का पंचनामा कर गया.

दरअसल ये दावा किया जा रहा है कि इमरान खान को सऊदी अरब के प्रिंस के प्लेन से उतार दिया गया था. हालांकि पहले ये बताया गया था कि विमान में तकनीकी खराबी थी . लेकिन एक रिपोर्ट ये दावा कर रही है कि विमान में कोई तकनीकी खराबी नहीं थी. बल्कि संयुक्त राष्ट्र में खाली कुर्सियों के सामने इमरान खान की लफ्फाज़ी से नाराज़ हो कर सऊदी प्रिंस ने अपना प्लेन ही वापस मंगा लिया.

पाकिस्तान की एक साप्ताहिक मैगजीन फ्राइडे टाइम्स ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा है कि सऊदी अरब के प्रिंस क्राउन मोहम्मद बिन सलमान दरअसल इमरान खान से इस कदर नाराज़ हो गए कि उन्होंने बीच हवा में अपना जेट वापस मंगा लिया. प्रिंस ने जब प्लेन वापसी का फरमान जारी किया तब इमरान अपने वज़ीरों के साथ फोकट में मिले प्लेन में दावत उड़ाते-उड़ाते कनाडा पहुंच चुके थे. लेकिन कनाडा से प्लेन ने वापस यू-टर्न लिया और जाकर सीधे अमेरिका के एयरपोर्ट पर लैंड हुआ. एकबारगी ये लगा कि शायद तकनीकी खराबी की वजह से ऐसा हुआ. लेकिन सच्चाई ये है कि इमरान खान के भाषणों से सऊदी प्रिंस का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया था. तभी उन्होंने उड़ते प्लेन को वापस बुला लिया .

एक सवाल ये भी है कि जिस तरह से फ्राइडे टाइम्स ने इस रिपोर्ट को लीक किया है. उससे मैगजीन की मंशा पर सवाल उठते हैं. इस रिपोर्ट को लीक करवाने के पीछे क्या कोई सियासी साज़िश है. क्या इमरान के विरोधी राजनीतिक की पिच पर इमरान को ज़ीरो साबित करने के बाद कुछ नया और बड़ा करने वाले हैं. बड़ा इसलिए क्योंकि पाकिस्तान आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा के इरादे ठीक नज़र नहीं आ रहे हैं. लोग कह रहे है कि बाजवा की बाज़ निगाहें अब इमरान की कुर्सी पर ठहर चुकी हैं. बड़ा सवाल ये भी है कि अब इमरान खान के साथ हर दौरे में बाज़वा साथ-साथ चल रहे हैं.

फ्राइडे टाइम्स ने ये भी लिखा है कि जब संयुक्त राष्ट्र महासभा में इमरान खान बोल रहे थे तब हॉल आधा खाली पड़ा था और इमरान ने मान लिया था कि पाकिस्तान अलकायदा आतंकियों को प्रशिक्षित करता था.
हालांकि पाकिस्तान सरकार फ्राइडे टाइम्स की खबर पर आपत्ति जता रही है. इसे मनगढ़ंत बता रही है और ये दावा कर रही है कि पाकिस्तान और सऊदी अरब के शासकों के बीच बेहतरीन संबंध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here