Twitter ने लिया भारत से पंगा – नुकसान ट्विटर का ही होना है !

सिर्फ नुकसान ही नहीं, अगर धंधा करना है और बाजार में खड़े रहना है तो ट्विटर को अपनी बद-तमीजी की माफ़ी मांगनी ही पड़ेगी..

0
180
बेसिक धंधेबाजी भी नहीं आती ट्विटर को. किसी भी छोटे परचूनिए से सीखी जा सकती है ये धंधेबाजी याने कि दुकानदारी में इज्जत करनी होती है ग्राहक की, उसका अपमान करके दुकान नहीं चलती. ट्विटर तो दुनिया का धंधेबाज है, उसे कैसे नहीं पता कि सम्मान-प्रिय भारतवर्ष में उसकी बदतमीजी की दुकान चलाने की सोच बहुत बड़ी बेवकूफी की सोच है. तमीज नहीं आती तो तमीज सीखा दी जायेगी, ये मोदी का भारत है, बहुत से बद्तमीज तमीज सीख गए हैं और बहुत से लाइन में हैं.

दो सबसे बड़े ट्विटर अकाउंट्स से की छेड़छाड़

ट्विटर ने बड़ा दुस्साहस दिखाया था और भारत के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के निजी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत सहित तीन बड़े नेताओं की ट्विटर अकाउंट को अनवेरिफाइड कर दिया था. यद्यपि बाद में ट्विटर ने ब्लू टिक रिस्टोर कर दिया किन्तु इस हरकत का अर्थ ऊपर से तो यही दीखता है कि भारत को ट्विटर की ताकत का अनुमान कराना था. किन्तु इसका उलटा होने की पूरी संभावना है और ट्विटर को भारत की ताकत का अनुमान होने लगा है और ट्विटर की धंधेबाजी पर भारत की डंडेबाजी ताबड़तोड़ बरस सकती है.

देनी पड़ी सफाई

ट्विटर को अपनी हरकत की सफाई भी देनी पड़ी. ट्विटर को पता था कि सफाई न देने का अर्थ है भारत से बोरिया बिस्तर गोल. अपनी बेजा हरकत पर ट्विटर ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि हमारी नई नीति के कारण ऐसा हुआ. ट्विटर ने बताया कि छह माह तक इनएक्टिवेट रहने पर ट्विटर से अकाउंट इनएक्टिवेट हो जाता है. इस सोशल मीडिया कम्पनी ने कहा कि हमारी सत्यापन नीति के अनुसार अगर अकाउंट इनएक्टिवेट हो जाता है तो ट्विटर ब्लू टिक और वेरिफाइड स्टेटस हटा सकता है. चूंकि ये अकाउंट जुलाई 2020 से अकाउंट इनएक्टिवेट थे इसलिए ऐसा हुआ.

सरकार ने किये नए नियम लागू

ये भारत है, अमेरिका नहीं. यहां एक राष्ट्रवादी सरकार पर मीडिया की जबरदस्ती नहीं चल सकती. भारत सरकार की काफी पहले से ट्विटर पर नज़र थी. अब सरकार द्वारा ट्विटर को आखिरी चेतावनी दी गई है और कहा है कि यदि ट्विटर ने भारत के नए IT नियम नहीं माने तो उसे परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहना चाहिए. इस तरह तीसरी और आखिरी बार केंद्र सरकार ने ट्विटर को नए आईटी नियमों को लागू करने का अवसर फिर दिया है जो अंतिम अवसर है उसके लिए.

ट्विटर को दिया गया अंतिम अवसर

ट्विटर को नए डिजिटल नियम लागू करने को लेकर आईटी मंत्रालय की तरफ से अंतिम चेतावनी दी गई है. मंत्रालय ने अपने नोटिस में ट्विटर को स्पष्ट किया है कि इस सोशल मीडिया कंपनी को शीघ्र ही नए भारतीय डिजिटल क़ानून के अंतर्गत बनाये गए नए नियमों को लागू करना होगा. ऐसा न करने की स्थिति में कम्पनी को गंभीर परिणाम भगतने पड़ सकते हैं और आईटी एक्ट 2000 की धारा 79 के तहत उसे मिली छूट समाप्त कर दी जायेगी साथी ही उसे आईटी एक्ट और अन्य दंडात्मक प्रावधानों के अंतर्गत होने वाली कार्यवाही के लिए तैयार रहना होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here