पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर किया नेशनल हेल्थ मिशन का ऐलान, जानें कैसा होगा आपका हेल्थ-कार्ड

हेल्थ कार्ड बनने के बाद किसी भी व्यक्ति को अपने मेडिकल टेस्ट और दवाइयों के पर्चे साथ लेकर हॉस्पिटल और डॉक्टरों के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

1
303
  • हर नागरिक का बनेगा हेल्थ कार्ड
  • हेल्थ कार्ड में दर्ज़ रहेगी मेडिकल हिस्ट्री
  • पूरे देश में एक ही रहेगा हेल्थ कार्ड

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन का ऐलान करते हुए कहा कि ये योजना देश में हेल्थ सेक्टर में क्रांति लेकर आएगी. इस हेल्थ मिशन के जरिए अब हर भारतीय को एक हेल्थ कार्ड मिलेगा. One Nation One Ration Card की ही तरह One Nation One Health Card की योजना का ऐलान किया. आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तर्ज़ पर ही राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन होगा.

आपको बताते हैं कि ये हेल्थ कार्ड कैसा होगा और इसके बनने से आपको क्या क्या फायदा होगा.

आधार कार्ड की ही तरह नेशनल डिजिटल हेल्थ कार्ड होगा. इस कार्ड में आपकी बीमारी, आपकी मेडिकल हिस्ट्री, टेस्ट और दवा की जानकारियां दर्ज रहेंगी.इससे डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री को देख कर आपकी बीमारी का इलाज आसानी से कर सकेंगे.

इस कार्ड के बनने से इलाज और मेडिकल टेस्ट की सारी जानकारी पहले से लेकर मौजूदा समय तक कार्ड में उपलब्ध रहेगी जिससे भविष्य में कभी भी इलाज में इससे मदद मिलेगी.

कार्ड का सबसे बड़ा फायदा

किसी बीमार परिजन के इलाज के लिए हॉस्पिटल में जाने पर या किसी डॉक्टर का अपाइंटमेंट लेने पर आपको साथ में पुराने मेडिकल टेस्ट और इलाज का प्रिस्क्रिप्शन साथ लेकर घूमने की जरूरत नहीं पड़ेगा. आपके हेल्थ कार्ड में दर्ज यूनिक आईडी के जरिए डॉक्टर आपकी पुरानी मेडिकल रिपोर्ट अपने कम्प्यूटर पर देख सकेंगे.

जिस तरह से देश में किसी भी हिस्से में मौजूद व्यक्ति का आधार-कार्ड एक सेंट्रल सर्वर से जुड़ा होता है उसी तरह हेल्थ कार्ड भी सेंट्रल सर्वर से कनेक्ट रहेगा. उसी सेंट्रल सर्वर से हॉस्पिटल, क्लीनिक और डॉक्टर भी जुड़े रहेंगे. सेंट्रल सर्वर पर ही पेशेंट का मेडिकल डाटा उसकी यूनिक आईडी के जरिए देखा जा सकेगा.

केंद्र सरकार ने नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन में खासतौर से इस बात का ध्यान रखा है कि किसी एक व्यक्ति की दो यूनिक आईडी जारी न होने पाए. सिर्फ एक सिंगल यूनिक आईडी की जारी होगी जिसमें सभी जानकारियां दर्ज रहेंगी.

मोदी सरकार इस हेल्थ मिशन के लिए एप बनाएगी . सरकार की कोशिश है कि टेक्ननोलॉजी की मदद से कम खर्च में लोगों को शानदार स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाएं. ऐसे में आयुष्मान भारत के बाद नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन देश में स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए निर्णायक साबित हो  सकता है क्योंकि आज तक ऐसी कभी पहल नहीं की गई.

1 COMMENT

  1. बहुत सुंदर व लाभकारी जानकारी पारिजात भाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here