देशद्रोह के नारे लगाने वालों से खुद को जोड़ कर दिग्गी राजा ने पेश किया अपना रंक कलंक..

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने स्वयं को कन्हैया कुमार का प्रत्याशी घोषित किया. दिग्विजय सिंह इस चुनाव के बाद दिग्गी राजा नहीं कहलायेंगे. उनको वही कहा जाएगा जो देशद्रोहियों के समर्थकों को कहा जाता है. भोपाल पूर्व से कांग्रेस के उम्मीदवार बन कर लोकसभा में चुने जाने की तमन्ना रखने वाले दिग्विजय सिंह ने ये एक और बड़ी गलती कर डाली है.

दिग्विजय सिंह ने सोचा है कि ये उनका सोचा समझा बयान है और उनके बड़े काम आएगा. बिलकुल काम आएगा और इसके बाद देशप्रेमी जमात साध्वी प्रज्ञा के साथ और भी मजबूती से खड़ी हो जाएगी. नैतिक तौर पर भी देशद्रोह के इल्जाम में जेल जा चुके कन्हैया कुमार को समर्थन देना तो वैसे भी किसी अपराध से कम नहीं.

दिग्विजय सिंह ने कन्हैया कुमार जैसों को समर्थन दे कर स्वयं को लज्जित नहीं मानते. उन्होंने कन्हैया की जीत के प्रति आश्वस्ति भी जाता डाली और साथ ही ये भी कहा कि राष्ट्रीय जनता दल ने बेगूसराय में अपना प्रत्याशी उतार कर बहुत बड़ी गलती कर दी है.

(अर्चना शैरी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here