भाजपा को नहीं हरा सकती कांग्रेस – माना चार दिग्गजों ने

0
532

बड़ी खबर है ये. कारण कि यह विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस की आज की स्थिति को दर्शाती है. कांग्रेस की स्थिति की तस्वीर तब भी थोड़ बेहतर आती यदि उसमें आत्मविश्वास होता. कांग्रेस का आत्मविश्वास रसातल में जा चुका है और यही आज की बड़ी खबर है.

एक समय के एक नामचीन कांग्रेसी नेता – जो आज कोने में चले गए हैं – यह उनका कथन है. इस कथन में जितना विश्लेषण है उतना ही विषाद भी है. खबक ये है कि सलमान खुर्शीद को कहना पड़ गया है कि आ रहे लोक सभा चुनावों में भाजपा को हराना कांग्रेस के बस की बात नहीं.

कांग्रेस के मृतप्राय आत्मविश्वास ही उसकी वस्तुस्थिति है. सलमान खुर्शीद ने इस दुखद स्थिति का समाधान भी प्रस्तुत किया. उन्होंने साफ-साफ कह दिया कि अगर कांग्रेस भाजपा को टक्कर देना चाहती है तो अन्य विपक्षी दलों का साथ लेना ही होगा.

सलमान खुर्शीद ने अपने राजनीतिक अनुभव का इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस के साथ ही अन्य विपक्षी दलों को भी बिन मांगे सलाह दे डाली है. वे कहते हैं कि 2019 के आम चुनाव में भाजपा को हराने के लिए अन्य दलों को भी बलिदान और समझौते करने होंगे..कांग्रेस के सभी नेता इसे अच्छी तरह से समझ गये हैं कि देश की सत्ता को बदलने के लिए गठबंधन अनिवार्य है.

उनके अनुसार विपक्ष की सभी पार्टियों को एकजुट हो कर महा-गठबंधन तैयार करना चाहिए. ये दुखद है कि विपक्ष की एकता कांग्रेस को रोकने में जुटी है. इस गठबंधन को तो भाजपा को रोकने के लिये बनना चाहिए.

कांग्रेस की आज की स्थिति देखते हुए सलमान खुर्शीद का मानना है कि पार्टी को अकेले दम पर सरकार बनाने के लिए पांच साल तक काम करना जरूरी है क्योंकि पिछले तीन साल से कांग्रेस गठबंधन के लिए काम कर रही है. कांग्रेस अब अकेले चुनाव लड़ने के बारे में नहीं सोच सकती..गठबंधन के लिए जो भी बलिदान, समझौते या बातचीत जरूरी होगा, उसके लिए कांग्रेस तैयार को भी तैयार रहना चाहिए. लेकिन इसके लिए दूसरे दलों को भी इस तरह का सामंजस्य दिखाना होगा.

भाजपा को नहीं हरा सकती है कांग्रेस – इस तथ्य के प्रति गंभीर सहमति जताने वालों में सलमान खुर्शीद के अलावा उनकी ही पार्टी कांग्रेस के बड़ नेता मणिशंकर अय्यर, मायावती और असदुद्दीन ओवैसी भी शामिल हैं.

(पारिजात त्रिपाठी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here