पूछता है देश: टूलकिट के षडयन्त्रकारियों की क्या होनी चाहिये सजा?

सब परदे के बाहर आ गया - पूरा षडयंत्र टूलकिट में समा गया, सोनिया की कांग्रेस अब क्या कहेगी - अब क्या करेगी..

0
241
सब परदे के बाहर आ गया – पूरा षडयंत्र टूलकिट में समा गया, कुकर्मों से नहीं बचे ऐतिहासिक पार्टी के नेता, स्थिति बताती है कि सर्वनाश तय है, अभी तो ये चेतावनी है.
पहले भी एक टूलकिट कांग्रेस के संरक्षण में बनी थी जो ग्रेटा ने लीक कर दी थी और जिसमें मोदी को उखाड़ने की नीति बनाई गई थी -और एक टूलकिट अब बाहर आई है जिसमे मोदी की साख से बड़े वाले कांग्रेसी परेशान हैं.
टूलकिट के विस्तार में जाने के लिए बहुत कुछ कहना होगा मगर एक बात इस टूलकिट में सामने आई है –कांग्रेस के लोगों से कहा गया कि मित्र पत्रकारों से मिल कर मोदी को फेल होता बोलो और बताओ और दिखाओ.
दूसरी मुख्य बात कही गई कि जो भाजपा और मोदी समर्थक मोदी से सवाल कर रहे हैं या उनके काम पर नाखुशी जता रहे हैं, उसका खूब प्रचार करो जिससे मोदी की छवि धूमिल हो.
इस तरह का कांग्रेसी षड़यंत्र नया नहीं है और उसी को ध्यान में रख कर मैं बार-बार कहता रहा हूँ कि देश को प्यार करने वालों को हर हाल में मोदी के साथ खड़े रहना चाहिये..
आज के समय में मोदी के खिलाफ खड़े हो कर हमारे मित्र अनजाने में ही सही, कांग्रेस के साथ ही खड़े हो जायेंगे जिसका परिणाम बहुत घातक होगा.
मोदी इनके किसी षड़यंत्र का जवाब देने में समय व्यर्थ नष्ट नहीं करते, ऐसे नेता पर हम सभी को गर्व होना चाहिए, वो इस महामारी से देश को निकालने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं, उन पर हमारा भरोसा टूटना नहीं चाहिए.
विदेश से आकर भारत में बस गये नकली गाँधी परिवार को अपनी लालसा और कुर्सी पिपासा को नियंत्रण में रखना चाहिए. कांग्रेस के नेता अभी भी षडयन्त्रों से बाज नहीं आ रहे हैं. इनको राष्ट्र के साथ नहीं चलना है तो न चलें, विरोध में चलने से बचना चाहिये.
कांग्रेस की तकलीफ ये है कि ये महामारी कांग्रेसराज में नहीं आई और अगर आई होती तो वारे न्यारे हो जाते – इसीलिए आज जहां इस पार्टी की सरकारें हैं, वहां लूट चालू है — पीएम केयर फंड का सामान तक गायब कर दिया गया है.
कांग्रेस सरकार में महामारी आई होती तो डेढ़ साल में 25 लाख लोग मारे गए होते, मास्क, पीपीई किट, वैक्सीन सब कुछ विदेश से आता और किस कमीशन पर आता, ये बताने की जरूरत नहीं है –जो वैक्सीन 250 की डोज़ लग रही है वो 2500 से कम नहीं मिलती.
आज कांग्रेस जलती चिताओं में भी अपना फायदा तलाश रही है, अरे किसी जलती चिता का ही श्राप लग गया तो फिर कहीं के नहीं रहोगे – गिद्धों की तरह शवों को खाने वालों को चाहिये कि वे भी अपने भयानक अंत के लिए तैयार रहें.
कुम्भ के लिए दुष्प्रचार करने के लिए कहा टूलकिट में मगर ये साजिशकर्ता ये नहीं जानते कि मौनी अमावस्या को इनकी लाड़ली नेता प्रियंका वाढरा खुद गंगा जी में नहाने गई थी और वो अमावस्या भी कुम्भ का हिस्सा थी.
कुछ दिन पहले चिदंबरम ने लोगों से मोदी सरकार के खिलाफ विद्रोह करने के लिए कहा था –लगता है वह भी इस टूलकिट का हिस्सा था देश में दंगे भड़काने के लिए.
मोदी को बदनाम करके उसकी छवि धूमिल करने के लिए सोनिया कांग्रेस षडयंत्र कर सकती है मगर वो सफल नहीं हो सकती –अगर हो सकती होती तो बंगाल में 44 सीट से जीरो पर न आती.
सोनिया कांग्रेस के साथ देशी- विदेशी पत्रकार हो सकते हैं, मीडिया हो सकता है, राजनीतिक दल हो सकते हैं मगर नरेंद्र मोदी को स्वयं भगवान भोले शंकर और माँ जगदम्बा का वरदान है भारतवर्ष के लिए, इतना सोनिया को याद रहना होगा.
(सुभाष चन्द्र)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here