सांस्कृतिक कुंभ – कला उत्सव : दिवस-15 : 1 फरवरी 2019

0
855

प्रयागराज कुम्भ २०१९ वर्तमान में आस्था और धर्म के केंद्र बिंदु की भूमिका में है और दुनिया भर से आरहे श्रद्धालुओॆ का आतिथ्य कर रहा है. उत्तरप्रदेश संस्कृति विभाग ने सांस्कृतिक गतिविधियों को जो मंच प्रदान किया है, वह सराहनीय है. कुम्भ परिसर के अंतर्गत इन पांचों मंचों पर प्रति दिन सांस्कृतिक गतिविधियां चल रही हैं.

सेक्टर 1 स्थित गंगा मंच पर मुंबई के विजय पंडित द्वारा ने कुम्भ के दर्शकों के लिए एक ख़ास कार्यक्रम – सप्तधारा नृत्य प्रस्तुत किया. उनके बाद मुंबई के गायक रवि त्रिपाठी ने लोकप्रिय गीतों की प्रस्तुति दी.

सेक्टर ४ के अक्षयवट मंच पर आज मथुरा की कलाकार गीतान्जलि शर्मा ने बृज का लोक नृत्य प्रस्तुत किया. इस लोक नृत्य के बाद वाराणसी के राहुल -रोहित मिश्रा ने उपशास्त्रीय गायन प्रस्तुत किया. इस गायन के बाद जबलपुर की संजो बघेल ने रामायण-आल्हा का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. इसके बाद इस मंच पर सबसे विशेष कार्यक्रम मंचित हुआ वही थी मॉरिशस की रामलीला जिसे मॉरिशस के सौंदर्य विश्वविद्यालय के कलाकारों ने प्रस्तुत किया.

सेक्टर 6 के भारद्वाज मंच पर प्रयागराज के कलाकार उमेश कुशवाहा ने दशावतार नृत्य प्रस्तुत किया. उनके बाद गुजरात के चेतन जेठवा की नृत्य प्रस्तुति हुई जिसमे दर्शकों ने डांडिया एवं महारास नृत्य देखा. उनके बाद लखनऊ के कलाकार डॉक्टर हरिओम ने ग़ज़लें सुना कर दर्शकों का मनोरंजन किया. इसके बाद दिल्ली की चंचल भारती लोकप्रिय कार्यक्रम- जवाबी कव्वाली प्रस्तुत किया. दिल्ली की एबिलिटी अनलिमिटेड संस्था से आये दिव्यांग बच्चों ने आज की सबसे विशेष प्रस्तुति डांस ऑन व्हील्स प्रस्तुत की. फरुवाही लोकनृत्य के बाद रायबरेली से आये शीलू राजपूत का आल्हा गायन हुआ.

सेक्टर 17 के यमुना मंच पर आप देख सकेंगे गुजरात के कलाकार परवीन भाई का डांडिया और गरबा नृत्य. उनके बाद पटना के संजय उपाध्याय बिदेसिया नृत्य-गायन प्रस्तुत करेंगे. बिदेसिया के बाद वाराणसी की गायिका सुचरिता गुप्ता का उपशास्त्रीय गायन का कार्यक्रम प्रस्तुत किया.

सेक्टर 13 के सरस्वती मंच पर प्रयागराज के कलाकार मनोज गुप्ता ने श्रोताओं के लिए भजन प्रस्तुत किये. उनके बाद गोरखपुर के कलाकार शरदमणि त्रिपाठी ने लोक गायन प्रस्तुत किया. इस लोक गायन के बाद उत्तरप्रदेश के ही दद्दूराम श्रीवास ने बधाई लोक नृत्य प्रस्तुत किया. इस लोक नृत्य के बाद दिल्ली के रोहित त्रिपाठी के नाटक महारथी का मंचन किया गया. इस नाटक के बाद छत्तीसगढ़ के देवीलाल नाग ने भी कुंती का परिताप नामक नाटक का मंचन किया.

प्रयागराज शहर स्थित बीस कलामंच भी रोज़ की तरह अपनी कला-संस्कृति की खुशबू बिखेरते रहे.

आज किला चौराहे, अक्षयवट मंच के निकट और भारद्वाज मंच के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर वाराणसी के प्रियांशु घोष शास्त्रीय संगीत की प्रस्तुति दी जिसमें उन्होंने दादरा और कजरी प्रस्तुत की. उनके बाद मथुरा के कलाकार हरीश कुमार के लोक नृत्य ने दर्शकों की खूब वाहवाही लूटी.

केपी इंटर कॉलेज, लेप्रोसी मिशन चौराहे और हाथी पार्क के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज प्रयागराज के रामानंद ने लोकनृत्य प्रस्तुत किया. उनके बाद लखनऊ के राजेश पाल ने जादू का कार्यक्रम पेश कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

संस्कृति ग्राम चौराहे, अरैल सेक्टर 19 कला-मंच और वल्लभाचार्य मोड़ के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज प्रयागराज के सुरेंद्र कुमार एंड पार्टी ने लोक गंगा गीत प्रस्तुत किया. उनके बाद मथुरा के कलाकार परवीन मोरवाल ने अवधि लोकनृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों का मन मोह लिया.

बैंक चौराहे, सिविल लाइन बस स्टॉप और पत्थर वाले चर्च के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ के पुष्कर आहूजा ने नाटक का मंचन किया. उनके बाद बिहार के जादूगर पवन कुमार ने जादू के कार्यक्रम की प्रस्तुति से महफ़िल लूट ली.

बालसन चौराहे, इंद्रमूर्ति चौराहे और सुभाष चौराहे के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज गाजियाबाद के कलाकार दीपक कुमार ने नाटक का मंचन किया वहीं प्रयागराज के लोक गायक राम सूचित ने बिरहा गायन करके समा बाँध दिया.

विश्वविद्यालय तिराहे और राजपुर ट्रैफिक चौराहे के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ की चित्रण कला मंच समिति के लोक-कलाकार विपिन कुमार ने कठपुतली का खेल दिखाया. उनके बाद लखनऊ के सत्य प्रकाश साहू ने लोकगायन प्रस्तुत किया जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया.

हीरालाल हलवाई चौराहा, सरस्वती घाट-नैनी ब्रिज और प्रयागराज जंक्शन के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लोक कला केंद्र लखनऊ के कलाकार विवेक सागर ने कठपुतली का खेल दिखाया. उनके बाद लखनऊ के रमेश कुमार वर्मा ने लोकनृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को काफी हद तक प्रभावित किया. प्रयागराज से न्यूज़ इन्डिया ग्लोबल के लिये पारिजात त्रिपाठी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here