सांस्कृतिक कुम्भ कला उत्सव : दिवस-4 : 20 जनवरी, 2019

0
844

कुम्भ में श्रद्धालु एक तरफ जहां पारंपरिक मेले का आनंद ले रहे हैं वहीं वे सांस्कृतिक मेले में भी सम्मिलित हो रहे हैं.

यह सांस्कृतिक मेला उत्तरप्रदेश संस्कृति विभाग के सौजन्य से कुम्भ परिसर में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. इसके अंतर्गत विभाग द्वारा स्थापित पांच कला मंचों पर प्रतिदिन विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं.

आज कुम्भ परिसर के सेक्टर ४ स्थित अक्षयवट मंच पर दिल्ली की कलाकार सुनंदा शर्मा उपशास्त्रीय गायन प्रस्तुत किया. उनके उपरान्त दिल्ली के श्रीराम भारती कला केंद्र ने रामलीला का मंचन कर वातावरण में आध्यात्मिक रंग घोल दिये.

सेक्टर ६ स्थित भारद्वाज मंच प्रयागराज की कलाकार बीना सिंह ने डिडिया लोकनृत्य प्रस्तुत किया. . उनके उपरान्त दर्शकों ने नोएडा के कलाकार ब्रह्म पाल नागर का रागनी गायन का लुत्फ़ लिया. लखनऊ के विक्रम बिष्ट द्वारा उत्तरांचल के लोकनृत्य की प्रस्तुति देखी गई. इसके उपरान्त जो सबसे अहम कार्यक्रम इस मंच पर प्रस्तुत किया गया वह था थाईलैंड सरकार के सौजन्य से प्रस्तुत रामलीला जो कि थाईलैंड के कलाकारों ने ही प्रस्तुत किया.

सेक्टर १७ के यमुना मंच पर छत्तीसगढ़ की कलाकार उर्वशी साहू द्वारा राउतनाचा, करमा और सुगा लोकनृत्य प्रस्तुत किया गया. इसके पश्चात मुंबई के कलाकार जेएस आर मधुकर का सूफी गायन ने श्रोताओं को मुग्ध कर दिया. इसी मंच पर असम के कलाकार हेमचन्द्र गोस्वामी के द्वारा लोकलाट्य शैली -अंकिया नाट का मंचन हुआ. इस नाटक के बाद इस मंच के दर्शक जिस विशेष प्रस्तुति के साक्षी बने वह थी रामलीला. यह उत्तर कमलाबाड़ी संत शंकरदेव कृषि संघ द्वारा प्रस्तुत की गई.

भारतीय भोजन के स्वाद का आनंद लेना है तो ललित कला अकादमी के प्रदर्शनी पंडाल में पधारिए जहां उत्तर भारतीय एवं दक्षिण भारतीय व्यंजनों का स्वादिष्ट सम्मिश्रण अपनी सुगन्धि बिखेर रहा है. मेले में आने वाले श्रद्धालु सभी प्रांतों के देसी-परदेसी व्यंजनों का स्वाद चख रहे हैं. इनमें दक्षिण भारतीय व्यंजनों सहित गुजराती, राजस्थानी, बिहारी समेत कई प्रदेशों के व्यंजन शामिल हैं. शाम होते ही यहां जायके के दीवानों की भीड़ उमड़ पड़ती है. लोगों की जुबान पर स्वाद के साथ सराहना भी खूब नज़र आ रही है. प्रयागराज से न्यूज़ इन्डिया ग्लोबल के लिये पारिजात त्रिपाठी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here