Mahabharat की कुछ कही अनकही बातें -1

महाभारत सृष्टि का प्रथम विश्वयुद्ध था जो आज के राजनीति विशारदों से लेकर युद्ध विशेषज्ञों के लिये शोध का महत्वपूर्ण विषय है..

0
271

 

महाभारत ने भारतीय इतिहास को दो हिस्सों में तोड़ डाला एक महाभारत से पहले का भारत जो कि पूर्ण विज्ञान और समृद्धि से भरपूर था दूसरा महाभारत के बाद का भारत जो अंधविश्वासों और गरीबी के गर्त में डूबता गया। महाभारत को आप भले ही गर्व का विषय कहे मगर एक राष्ट्र के रूप में यह युद्ध अभिशाप था। बहरहाल महाभारत से जुड़े कुछ कहे अनकहे तथ्य जानिए –

1) जैसे आज दिल्ली है वैसे किसी समय अयोध्या थी, सूर्यवंशियों के आपसी संघर्ष में पूरी अयोध्या नगरी जलकर भस्म हो गयी थी पर बाद में राजा हस्ती के नेतृत्व में चंद्रवंशियों ने अयोध्या पर कब्जा कर लिया और भारत को टूटने से पहले ही बचा लिया। यदि राजा हस्ती ना होते तो सूर्यवंशियों का गृहयुद्ध ही हमारे लिये सबसे बड़ी त्रासदी होता।

2) श्रीकृष्ण की रासलीला, माखनचोरी और महिलाओ के वस्त्र चुराने वाली किसी भी घटना का वर्णन वेदव्यास द्वारा रचित महाभारत में नही है। ये सब बातें भागवद पुराण से जोड़ी गयी है।

3) महाभारत युद्ध से पूर्व स्थिति कुछ ऐसी थी कि विश्व का लगभग सारा उत्पादन भारत मे ही होता है। भारत एक सुई से लेकर रथ तक सभी वस्तुएं निर्यात करता था।

4) भारत मे कई छोटे बड़े राज्य थे परंतु भारत की राजधानी हस्तिनापुर थी और हस्तिनापुर में बैठे राजा ही सम्पूर्ण भारत के राजा थे। यदि एक राज्य दूसरे पर कब्जा कर लेता था तो उसे आश्वस्त करना होता था कि वह पराजित राज्य की प्रजा, व्यापार और संपत्ति पर अत्याचार नही करेगा। यदि कोई राजा अवज्ञा करता तो हस्तिनापुर उसे दंडित करता था।

5) पांडवों ने अपने लिये अलग नगर इंद्रप्रस्थ बसाया था, दुर्योधन ने इसे हड़प लिया था यदि दुर्योधन इसे लौटा देता तो कदाचित महाभारत ही ना होती। इसमें आश्चर्य की बात यह है कि इंद्रप्रस्थ ही आगे चलकर हमारी राजधानी दिल्ली बना, बाद में इतिहास का हर बड़ा युद्ध दिल्ली को लेकर ही हुआ और इसकी शुरुआत भी महाभारत से ही हुई।

6) महाभारत का युद्ध लड़ने के लिये कुरुक्षेत्र का मैदान चुना गया था, क्योकि यहाँ मानव आवास कम था अतः जनजीवन को नुकसान से बचाने के लिये इस क्षेत्र का चुनाव किया गया।

7) श्रीकृष्ण पर महाभारत करवाने का आरोप लगाया जाता है परंतु यह आरोप निराधार है वास्तव में श्री कृष्ण ने 5 बार इस युद्ध को टालने का पूरा मगर असफल प्रयास किया था।

8) महाभारत एक ऐसा युद्ध था जिसमे ना सिर्फ सेनाएं बल्कि उस दौर के वैज्ञानिक (ऋषि मुनि), शिक्षक और उनके कई शिष्यों ने भी भाग लिया।

9) महाभारत में ना सिर्फ भारत अपितु पूरे विश्व की सेनाएं सम्मिलित हुई थी, हस्तिनापुर का सिंहासन पूरे विश्व पर प्रभाव डालने वाला था अतः सभी देश अपना अपना हित देखते हुए भारत पधारे थे और दुर्भाग्यवश इनमें से कोई भी जीवित नही लौटा, विदेशी राजा और उनकी सेना सभी की समाधि भारत मे ही बन गयी।

10) उस समय भारत सबसे ज्यादा शक्तिशाली देश था भारतीयों ने वैदिक विज्ञान के दम पर ना जाने कितने विध्वंसक शस्त्र बना रखे थे जो पहली बार प्रयोग में लाये जा रहे थे। जब युद्ध मे इनका प्रयोग हुआ तो हाथी ऊंट और अन्य जीव सहम गए और भगदड़ मचा दी। मात्र भगदड़ में ही दोनो पक्ष के असंख्य सैनिक मारे गए थे।
To be continued…

(परख सक्सेना)

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here