Flying Car : अब होगी परवाज आसमान की

ये कार है या उड़न खटोला, आप ही फैसला कीजिये लेकिन पहले जान तो लीजिये कि मेड इन इन्डिया ये प्रोडक्ट देश में परिवहन क्रान्ति का जनक बनने जा रहा है..

0
42
उड़ता सुपरमैन ,उड़नखटोला तो सुना है हम सबने पर उड़ती कार !यह सपना नही. विश्वास नही हो रहा ना आपको भी परन्तु यह सत्य है. जल्द आ रही है उड़ने वाली कार जिसमें आप यात्रा कर सकते हैं. जी हाँ ये होगी देश की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार जिसके मॉडल की  जानकारी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी. अब देश के लोगों को ट्रैफिक जाम की समस्या से रोज़-रोज़ जूझना नही होगा. अब लोग इन Hybrid Flying Cars के द्वारा यात्रा कर सकेगें.

फ्लाइंग कार  की विशेषता 

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाइब्रिड फ्लाइंग कार के कॉन्सेप्ट मॉडल की जानकारी  देते हुए इस कार की खूबियों से अवगत कराया. उन्होंने बताया कि  इस कार की Capacity 1300 किलोग्राम वजन उठाने की होगीऔर यह कार 100-120 किलोमीटर/घंटे की की रफ्तार से चलेगी नही उड़ेगी.

समय की बचत और ट्रैफिक जाम से छुटकारा 

हर नई वस्तु  का आविष्कार जीवन को अधिक बेहतर और आरामदायक बनाने के ख्याल से किया जाता है.  बढ़ती जनसंख्या के आँकड़ों और उससे उत्पन्न समस्याओं के कारण सड़कों पर वाहनों की लम्बी कतारें जो घंटों खिसकने का नाम नही लेती जिससे लोगों को परेशानी झेलनी पड़ती है .  ऑफिस पहुँचने में देर होने के साथ-साथ कई आवश्यक कार्य में विलम्ब  होने के कारण  समय  पर शुरू नही हो पाते. इन्हीं सारी समस्याओं से निज़ात  पाने के लिये इस हाइब्रिड फ्लाइंग कारों (Hybrid Flying Cars) लॉन्च करने का निर्णय लिया गया हैं.

चेन्नई के स्टार्टअप की युवा टीम को श्रेय

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने ट्वीट कर बताया कि यह हाइब्रिड फ्लाइंग कार का मॉडल चेन्नई के स्टार्टअप की युवा टीम द्वारा बनाया गया है. बढ़ती जनसंख्या के कारण सड़कों पर लगने वाले जाम से ज्यादातर लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है और इस वजह से कई बार लोग ऑफिस समेत कई जरूरी कामों के लिए समय पर नहीं पहुंच पाते हैं. देश के लोगों को जल्द ही इस समस्या से मुक्ति मिल सकती है और हाइब्रिड फ्लाइंग कारों (Hybrid Flying Cars) के जरिए यात्रा कर सकते हैं.

फ्लाइंग कारों का उपयोग 

ज्योतिरादित्य सिंधिया  ने ट्वीट में यह बतया कि  हाइब्रिड फ्लाइंग कारों का उपयोग विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिये किया जायेगा.  लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के लिये और कार्गो को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिये इस फ्लाईंग कार का प्रयोग किया जाएगा. यह  भी कहा कि  भविष्य में मेडिकल के क्षेत्र में काफी मदद मिलने की संभावना है जिससे मेडिकल इमरजेंसी के समय  ज़्यादा से ज़्यादा  जीवन बचाया जा सकेगा.

विशेष कृत्रिम इंटेलिजेंस और डिजिटल इंस्ट्रूमेंट

बताया जा रहा है कि  Vinata Aeromobility  की टीम 5 अक्टूबर को लंदन में होने वाली हेलिटेक प्रदर्शनी में  अपने मॉडल को पेश करेगी.  टीम का कहना है कि हाइब्रिड फ्लाइंग कार में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ डिजिटल इंस्ट्रूमेंट पैनल भी होंगे  जो कार को उड़ाने और चलाने के अनुभव  और अधिक उम्दा व आकर्षक होंगे.  कार बाहर से देखने में काफी आकर्षक होगी, इस फ्लाइंग कार में जीपीएस ट्रैकर के साथ ही पैनोरमिक विंडो कैनोपी दी जाएगी.

कार के विशेष फिचर

कार का वजन 1100 Kgहोगा और यह लगभग 1300 Kg वजन उठा सकती है. यह “मेड इन इंडिया” हाइब्रिड फ्लाइंग कार है. विनता एयरोमोबिलिटी  की इस फ्लाइंग कारों को कुछ इस प्रकार डिज़ाइन किया गया हैं कि इसमें दो यात्रियों के बैठने की सुविधा होगी. 100-120 Km/प्रति घंटे की गति से उड़ने वाली इस कार के  उड़ान का समय 60 मिनट (maximum) और अधिकतम ऊंचाई 3000 ft.  होने की जानकारी दी गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here