अब Salary और Pension मिल पाएगी छुट्टी के दिन भी !

0
74
आज से यानि 1 अगस्त से परिवर्तन हो रहा हैं बैंकिंग,पोस्ट आफिस, पेंशन, ईएमआई और एटीएम के नियमों में.
अन्य सेक्टर से संबंधित कई नियमों में भी बदलाव की प्रक्रिया आज से संपन्न होगी. ये नए नियम किसी बम्पर धमाके से कम नही. आपको विश्वास नही हो रहा होगा मगर ये सच है. अब आपको घर बैठे छुट्टी के दिन भी तन्ख्वाह मिलेगी.
दूसरी तरफ एटीएम के लिए ज्यादा पैसे देने होंगे. जहाँ एक ओर कुछ सेवाओं में राहत मिली है तो अन्य मुफ्त सेवाओं पर शुल्क जारी किये गये हैं.चलिये इन नियमों से सम्बंधित बदलाव के बारे में जानते हैं साथ ही साथ यह भी जानेगें कि इन बदलावों का जन-मानस के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा.

नियमों में हुए ये परिवर्तन

 पहले नौकरी पेशा लोगों की सैलरी वर्किंग डे पर क्रेडिट होती थी. अब परिवर्तन के अनुसार उन्हें ईएमआई और तन्ख्वाह घर बैठे छुट्टी के दिन भी उपलब्ध हो सकेगी.
 इसकी वजह ये है कि भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया NACH यानि नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस द्वारा ये सूचना जारी की गई थी कि अब 1 अगस्त 2021 से फाईनेन्स संबंधित सभी बातों पर नये नियम लागू होंगे.
जहाँ सैलरी और EMI घर बैठे आपके खाते में जमा हो जायेगी वहीं गैस,टेलिफोन,बिजली और पानी के बिल,म्युचुअल फंड की किश्तों की राशि अब किसी भी समय जमा की सकती है.
 आईसीआईसीआई बैंक द्वारा कैश डिपॉज़िट-विथड्रॉल, एटीएम इंटरचेंज और चेकबुक चार्ज के नियमों में बदलाव किया गये हैं जो सेविंग अकाउंट होल्डर पर लागू होंगे.
 बैंक ने ये जानकारी अपनी वेबसाइट पर दी है कि छह मेट्रो सिटी में कस्टमर एक महीने के अंदर अब सिर्फ 3 ट्रांजैक्शन फ्री में कर पायेगें. इसके बाद जो भी ट्रांजैक्शन किया जायेगा उस पर चार्ज लगाया जायेगा. दूसरी तरफ अन्य लोकेशनों में पांच ट्रांजैक्शन की छूट की जानकारी भी दी गई है.
 लिमिट से अधिक कैश का ट्रंजैक्शन करने पर बैंक 20 रुपए का चार्ज लागू करेगा. ये चार्ज प्रत्येक फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन में लगाया जायेगा. नॉन फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन पर 8.50 रुपए की दर से चार्ज लगाया जायेगा.
 आईसीआईसीआई बैंक ने हर महीने 4 फ्री कैश के लेनदेन की छूट दी है वहीं, इसके बाद के ट्रांजैक्शन चार्ज देना होगा.
 महीने में 1 लाख रुपये तक नकद निकालने पर होम ब्रांच में कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा परन्तु 1 लाख रुपये की लिमिट पार करने के बाद के कैश ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये का अतिरिक्त भुगतान करना होगा.

कुछ मुफ्त सेवाओं पर तालाबंदी कर शुल्क जारी

 कुछ बैंकिंग सुविधाओं के लिये अब पैसों का भुगतान भी करना होगा. IPPB बैंक ने जुलाई माह में सूचना जारी करते हुए ये दावा किया था कि अब डोर स्टेप बैंकिंग सुविधा नि:शुल्क न हो कर चार्जेबल होगी. बैंक के मुताबिक डोर स्टेप बैंकिंग सुविधा के लिए 20 रुपये प्लस जीएसटी शुल्क अब हर दफा देना ही होगा.
 इन सभी फ्री सर्विसों पर अब ताला लगा दिया गया है. दूसरे शब्दों में यदि ग्राहक सुकन्या समृद्धि योजना जैसी पोस्ट ऑफिस योजनाओं की सेवाएं घर पर लेना चाहते हैं तो उन्हें 20 रुपये का शुल्क देना होगा.

अब एटीएम सेवाएँ होंगी महँगी

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जून माह में जारी सूचना के अनुसार एटीएम की इंटरचेंज फीस 1 अगस्त से 15 रुपये से बढ़ाकर 17 रुपये कर दी जायेगी. ध्यान देने वाली बात ये है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इंटरचेंज फीस में ये परिवर्तन 9 वर्ष के पश्चात किया है.
 बढ़ोतरी का निर्णय एटीएम पर होने वाले खर्च और भविष्य में योजनाओं के विकास और विस्तार के दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर किया गया है.
 अब नाॅन-फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन पर भी चार्ज 5 रुपये से बढ़ाकर 6 रुपये कर देने की बात कही गई है.

 

SBI ATM : व्हाट्सऐप मैसेज पर घर पहुंचेगा कैश, MOBILE ATM से डोरस्टेप सर्विस शुरू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here