Omicron Variant: WHO की चैतावनी जल्द ही पूरी दुनिया होगी इसकी चपेट में, नए वैरिएंट ओमिक्रॉन पर कोरोना वैक्सीन भी बेअसर?

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को भाप्ते हुए सभी देश सतर्क हो गए हैं. इस नए वैरिएंट को कुछ समय पहले पूरी दुनिया में तबाही मचा चुके डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक बताया जा रहा है. यह वायरस सबसे पहले यूरोप में मिला था. कोविड के नए स्ट्रेन ने अब अमेरिका (US) और यूएई (UAE) में भी दस्तक दे दी है. अब यह करीब 25 देशों में फैल चुका है जिसमें फ्रांस और जापान भी शामिल हो गए हैं. जिस वेरिएंट से पूरी दुनिया बचने का प्रयास कर रही है उसे लेकर WHO ने कहा है कि ये जल्द ही पूरी दुनिया में फैल सकता है. और कई लोग इसका शिकार हो सकते हैं.

कई देशों में फूटा ओमिक्रोम बम

ओमिक्रोन अब धीरे धीरे कई देशों में अपना पैर पसारता जा रहा है. ब्रिटेन में एक बार फिर से कोरोना संकट बढ़ गया है, यहां ओमिक्रॉन वैरिएंट के 22 मामलों की पुष्टि हुई है. ब्रिटेन के बाद जापान में भी मंगलवार को नए वैरिएंट के पाए जाने के बाद सख्ती बढ़ा दी गई है. जापान ने अपनी सीमाओं को सील कर दिया है और इंटरनेशनल ट्रैवलर्स की एंट्री पर भी रोक लगा दिया है. यहां पर हेल्थ वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन की तीसरी अथवा बूस्टर डोज दिए जाने की तैयारी शुरू हो गई है. इसके अलावा ब्राजील में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला सामने आ गया है. लैटिन अमेरिका से आए दो लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है.

ओमिक्रोन के आगे वैक्सीन भी बेअसर

कोविड-19 वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के तेजी से म्यूटेशन की क्षमता ने वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ा दी है. ओमिक्रॉन में अब तक 50 म्यूटेशन हो चुके हैं. तो क्या मौजूदा वैक्सीन किसी काम की नहीं है. मॉडर्ना के सीईओ स्टीफन बैंसेल को लगता है कि कोरोना वायरस का नया वेरियेंट ओमीक्रोन कोविड-19 विरोधी टीके को भी मात दे सकता है.

वैज्ञानिको कि रिसर्च जारी

साउथ अफ्रिका में सबसे पहले ओमिक्रोन का मामला सामने आया था. लेकिन अब ये तेजी से अपने पैर पसारता नजर आ रहा है. हालांकि वैज्ञानिक नए वेरिएंट से पैदा हुए खतरे के बारे में लगातार अध्ययन कर रहे हैं. कोरोना की दो लहर झेल चुकी दुनिया अब तीसरे लहर के लिए सतर्क हो चुकी है. ओमिक्रोन के बारे में पता लगाने के साथ ही कई देशों ने एहतियात के तौर पर अफ्रीकी देशों की यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया था.