राजधानी दिल्ली में ओमिक्रॉन की दस्तक, 17 संदिग्ध LNJP में भर्ती, देश में ओमिक्रॉन के 5 मामले

दिल्ली में ओमिक्रॉन की दस्तक, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने की राजधानी में पहले मरीज की पुष्टी

First Omicron Case in Delhi: देश की राजधानी दिल्ली में ओमिक्रॉन का पहला मरीज मिला है. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन दिल्ली में ओमिक्रॉन के पहले मामले की पुष्टी कर दी है. ये यात्री तंजानिया (Tanzania) से दिल्ली आया था. इसके संपर्क में आए 6 लोग भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के मुताबिक जो भी लोग विदेशों से आ रहे है उन सबका टेस्ट किया जा रहा है. बाहर से आए 17 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं. कुल 23 लोग ऐसे हैं, जिनका दोबारा टेस्ट किया जा रहा है. जीनोम सीक्वेंसिंग के बाद 12 लोगों की रिपोर्ट आई है, शुरुआती रिपोर्ट में एक शख्स ओमिक्रॉन पॉजिटिव पाया गया है. हालांकि अभी ये संभावित मामला ही है, इसकी फाइनल रिपोर्ट कल आएगी.

देश में ओमिक्रॉन के 5 मामले

देश में ओमिक्रॉन का सबसे पहला मामला कर्नाटक से सामने आया था. दिल्ली में मिले इस मरीज के साथ अब देश में ओमीक्रॉन के 5 मामले हो गए हैं. पहला और दूसरा ओमिक्रॉन का केस कर्नाटक के बैंगलुरु में मिला था. शनिवार को गुजरात के जामनगर और महाराष्ट्र के डोंबिवली से तीसरा और चौथा केस मिला था. फिलहाल 17 मरीज ओमिक्रॉन होने के संदेह में एलएनजेपी अस्पताल में निगरानी में है.

दिल्ली सरकार की केंद्र से मांग

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंदर केजरीवाल ने केंद्र सरकार से बार मांग की है कि, जहां भी ओमिक्रॉन वेरिएंट फैला हुआ है, वहां से फ्लाइट्स को बंद किया जाए. इससे ओमिक्रॉन वेरिएंट को देश में फैलने से रोका जा सकता है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ये कोरोना का नया वेरिएंट है, इसका इलाज पुराने वेरिएंट की तरह ही किया जा रहा है. सत्येंद्र जैन ने लोगों से अपील की है कि मास्क लगा कर ही घर से बाहर निकलें. साथ ही जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं ली है वो भी जल्द वैक्सीन भी लगवा लें.

कोरोना पर नई गाइडलाइन

दुनियाभर में कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर बढ़ते खतरे के बीच देश में इंटरनेशनल पैसेंजर्स के लिए नई गाइडलाइन आज से लागू कर दी गई है. नई गाइडलाइन के मुताबिक एट रिस्क देशों से आने वाले पैसेंजर्स को RT-PCR टेस्ट कराना जरूरी होगा. पैसेंजर्स को रिजल्ट आने तक एयरपोर्ट पर ही इंतजार करना होगा. सभी एयरपोर्ट्स पर अतिरिक्त RT-PCR फैसिलिटी की व्यवस्था की जाएगी. अन्य देशों के यात्रियों को एयरपोर्ट से बाहर जाने की अनुमति तो होगी लेकिन उन्हें 14 दिन के लिए सेल्फ मॉनिटरिंग करनी होगी. अब एयर सुविधा पोर्टल पर मौजूद सेल्फ डेक्लेरेशन फॉर्म में सभी इंटरनेशनल पैसेंजर्स को फ्लाइट बोर्ड करने से पहले अपनी 14 दिन की ट्रैवल हिस्ट्री बतानी होगी.