कोरोना-काल में देश के ‘चौकीदार’ ने खोला गरीबों के लिए खजाना,दिवाली- छठ पूजा तक गरीबों को मिलेगा मुफ्त राशन

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
  • पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन
  • गरीबों के लिए कल्याणकारी योजना को नवंबर तक बढ़ाया
  • 80 करोड़ गरीब परिवारों को दिवाली-छठ पूजा तक मिलेगा मुफ्त अनाज
  • अनलॉक-2 के दौरान सतर्कता बरतने की अपील की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना काल में देश को छठी बार संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने अनलॉक-2 को लेकर सतर्कता बरतने को कहा और कोरोना से प्रभावित गरीबों के लिए कल्याणकारी योजना के विस्तार का ऐलान किया. पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना को दीपावली से छठ पूजा तक बढ़ाने का फैसला किया है जिसके तहत 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन मिलेगा. सरकार के द्वारा 5 महीनों तक 80 करोड़ से ज्यादा गरीबों को मुफ्त गेहूं या चावल और 1 किलो चना प्रति महीने मुफ्त मुहैया कराया जाएगा.

पीएम मोदी ने सबसे पहले देशवासियों से कहा कि अनलॉक 2 के साथ हम जिस मौसम में प्रवेश कर रहे हैं उसमें सर्दी जुकाम बुखार होता है. ऐसे में आप सभी लोग अपना ध्यान रखें. उन्होंने कहा कि जब से अनलॉक शुरू हुआ है लोगों में लापरवाही बढ़ गई है. पहले हम बहुत सतर्क थे लेकिन आज जब ज्यादा सतर्कता की जरूरत है तो लापरवाही बढ़ना चिंता का कारण है.

पीएम मोदी ने कहा अनलॉक 1 के बाद से लोग कोरोना की गंभीरता को हल्के में ले रहे हैं और लापरवाही बरत रहे हैं. सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनने के नियम का सख्ती से पालन होना चाहिए. उन्होंने कहा कि गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है. इसलिए सबको कोरोना से जुड़ी सावधानियों और नियमों का पालन करना चाहिए. पीएम मोदी ने कहा कि अब देश के नागरिकों को फिर से लॉकडाउन के समय की सतर्कता दिखाने की जरूरत है. जो लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं उन्हें रोकना होगा और समझाना होगा. पीएम मोदी ने बताया कि एक देश के प्रधानमंत्री पर 13 हजार का जुर्माना सिर्फ इसलिए लग गया क्योंकि वे सार्वजनिक स्थान पर बिना मास्क पहने गए थे. भारत में भी स्थानीय प्रशासन को इसी चुस्ती से काम करना चाहिए.

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने पूरा प्रयास किया कि पूरे देश में कोई भी गरीब लॉकडाउन की वजह से भूखा न सोए. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना से लड़ते हुए भारत में 80 करोड़ लोगों को तीन महीने का राशन मुफ्त दिया गया है. इसके अतिरिक्त प्रत्येक परिवार को हर महीने एक किलो दाल भी दी गई. पीएम ने कहा कि देखा जाए तो अमेरिका की कुल जनसंख्या से ढाई गुना अधिक , ब्रिटेन की जनसंख्या से 12 गुना अधिक और यूरोपीय यूनियन की आबादी से दोगुने से ज्यादा लोगों को सरकार ने मुफ्त अनाज दिया.

पीएम मोदी ने कहा कि देश हो या व्यक्ति समय पर और संवेदनशीलता से फैसला लेने पर संकट का मुकाबला करने की शक्ति अनेक गुना बढ़ जाती है. इसलिए लॉकडाउन के खत्म होे के बाद सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लेकर आई. इस योजना के तहत गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. बीते तीन महीनों में जनधन खातों में 31 हजार करोड़ रुपये जमा करवाए गए. 9 करोड़ किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपये जमा हुए हैं.

साथ ही उन्होंने एक देश एक राशन कार्ड का भी जिक्र किया जिसका फायदा उन गरीबों को मिलेगा जो कि रोजगार के लिए अपना गांव अपना राज्य छोड़कर किसी और गांव जाते हैं.

लेकिन पीएम मोदी ने सरकार की कामयाब कल्याणकारी योजनाओं के लिए देश के अन्नदाता किसान और ईमानदार कर्जदाताओं को श्रेय दिया. उन्होंने कहा कि इनके समर्पण और परिश्रम की वजह से ही देश की सरकार मदद कर पा रही है. उन्होंने कहा कि करदाताओं ने ईमानदारी से टैक्स भरा है जिस वजह से देश इतने बड़े संकट में मुकाबला कर पाया है. उन्होंने देश के हर किसान और टैक्सपेयर का हृदय से आभार जताया.

पीएम मोदी ने इस दौरान लोकल-वोकल की बात की और आत्मनिर्भर होने पर ज़ोर दिया. उन्होंने कहा कि हम सब आत्मनिर्भर भारत के लिए दिन-रात एक करेंगे और लोकल के लिए वोकल होंगे.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति