गलवान के बलवानों से मिले पीएम मोदी, लेह से लगाई ललकार – ‘विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया’

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह चीन को इतना बड़ा दो-टूक संदेश दिया जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी. पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की सेना के साथ हुई खूनी झड़प के बाद एलएसी पर तनाव के बीच प्रधानमंत्री ने लेह पहुंच कर सबको चौंका दिया. शुक्रवार को पीएम मोदी ने निमू की फॉरवर्ड पोस्ट पहुंच कर जवानों का हौसला बढ़ाया इस दौरान उन्होंने सेना, एयरफोर्स और इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) के जवानों में जोश भरा.

प्रधानमंत्री ने इस दौरान अस्पताल में भर्ती भारतीय जवानों से मिले और उनकी वीरता और जांबाज़ी को सलाम किया. उन्होंने कहा कि आपका पराक्रम और शौर्य नई पीढ़ी के लिए प्रेरणा है. उन्होंने कहा कि मैं आपको सिर्फ प्रणाम करने आया हूं और आपको छूकर के और देखकर ऊर्जा लेने आया हूं. उन्होंने कहा कि दुनिया को ये संदेश मिल गया है कि न झुके हैं और न झुकेंगे. उन्होंने कहा कि आपको और आपको जन्म देने वाली मां को मैं प्रणाम करता हूं.

इसके बाद पीएम मोदी ने लेह में तैनात सैनिकों को संबोधित किया.
— पीएम मोदी ने कहा, ‘आपका साहस उन ऊंचाइयों से अधिक है जहां आप आज तैनात हैं.’ आत्मनिर्भर भारत का संकल्प आपके त्याग, बलिदान, पुरुषार्थ के कारण और भी मजबूत होता है.

— ‘आपकी बहादुरी और वीरता के किस्से देश के हर घर में गूंज रहे हैं. भारत माता के दुश्मनों ने आपकी आग और भड़का दी है’

— ‘जो कमजोर हैं वे कभी भी शांति की पहल नहीं कर सकते, बहादुरी के लिए शांति की आवश्यकता है.’

— ‘विश्व युद्ध हो या शांति, जब भी आवश्यकता होती है, दुनिया ने हमारे बहादुरों की जीत और शांति के प्रति उनके प्रयासों को देखा है. हमने मानवता की भलाई के लिए काम किया है.’

— ‘हम वही लोग हैं जो भगवान कृष्ण की बांसुरी बजाते हैं, लेकिन हम भी वही लोग हैं जो भगवान कृष्ण की मूर्ति बनाते हैं और उनका अनुसरण करते हैं जो ‘सुदर्शन चक्र’ धारण करते हैं.’

– ‘जब देश की रक्षा आप जैसे सैनिकों के हाथों में है, आपके मजबूत इरादों में है, तो सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत भी है. आपकी भुजाएं, उन चट्टानों जैसी मजबूत हैं, जो आपके इर्द-गिर्द हैं. आपकी इच्छा शक्ति आस पास के पर्वतों की तरह अटल हैं.’

– ‘आप सभी का हौसला, शौर्य और मां भारती के मान-सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुलनीय है. इस कठिन परिस्थिति में जिस तरह से आप सभी मां भारती की रक्षा में ढाल बनकर खड़े रहते हैं, उसकी सेवा करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में नहीं किया जा सकता.’

-‘ विस्तारवादी समय खत्म हो गया है, यह विकास का युग है. इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गई हैं या उन्हें वापस जाने के लिए मजबूर होना पड़ा है.’

– ‘मैं अपने सामने महिला सैनिकों को देख रहा हूं. सीमा पर युद्ध के मैदान में यह दृश्य प्रेरणादायक है. आज मैं आपका अभिनंदन करता हूं. जय करता हूं. मैं अपने 20 जवानों को पुनः श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.’

प्रधानमंत्री के लेह दौरे के बाद चीन की तरफ से प्रतिक्रिया आई है. चीन ने कहा है कि किसी को भी उकसावे वाला कोई कदम नहीं उठाना चाहिए.

साफ है कि लद्दाख में वीरों के बीच पहुंच कर पीएम मोदी ने चीन को सीधा संदेश दे दिया कि गलवान की खूनी झड़प के बाद भारत और भारतीय सेना का हौसला बहुत ऊंचा है.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति