दुनिया के सबसे बड़े दानदाता राष्ट्राध्यक्ष हैं PM Modi

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

नई दिल्ली. पीएम मोदी जहां एक तरफ राष्ट्रवादी प्रधानमन्त्री के रूप में सुख्यात हैं वहीं उनका जीवन भी देश के लिए ही समर्पित है जिसके बाद सभी कुछ कुछ गौण हो जाता है. अगर हम डालें नज़र ांडकों पर तो पता चलता है कि भारत राष्ट्र के प्रथम अभिभावक पीएम मोदी अब तक एक सौ तीन करोड़ रुपये का निजी दान कर चुके हैं.

की है अपने उपहारों की नीलामी

अत्यंत गौरव की अनुभूति है यह औऱ ऐसा अनुपम उदाहरण दुनिया में देखने को नहीं मिलता. भारत के प्रधानमंत्री का यह विशेष गुण दुनिया के सामने देश के व्यक्तित्व की विशालता को दर्शित करता है. कम ही ध्यान गया है इस बात पर मीडिया का कि प्रथम बार शपथ लेने से ले कर अब तक पीएम मोदी अपनी बचत और उपहारों की नीलामी से मिले सौ करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि को दान में दे चुके हैं.

किया दान पीएम केयर्स फंड में

हाल ही में पीएम केयर्स फंड में पीएम मोदी ने दो लाख पच्चीस हजार रुपये की राशि को दान में दिया है. पीएम केयर्स फंड को कोरोना से देश की जंग को मदद करने के लिये बनाया गया है. इसकी स्थापना के दौरान प्रधानमन्त्री मोदी ने सवा दो लाख रुपये इस फंड को प्रारंभिक अर्थदान के रूप में दिये थे.

किया दान स्वच्छता कर्मचारियों हेतु

लगभग एक वर्ष के लगभग हुआ है अर्थात वर्ष 2019 में कुंभ मेले के दौरान स्वच्छता कर्मचारियों के कल्याण के लिए बनाए गए फंड में पीएम मोदी ने अपनी व्यक्तिगत बचत के इक्कीस लाख रुपयों का दान किया था.

दी सोल पीस प्राइज़ से मिली धनराशि भी

वर्ष 2020 प्रधानमन्त्री मोदी को दक्षिण कोरिया ने अपना सोल पीस प्राइज़ दे कर सम्मानित किया था. इसके बाद इस पुरस्कार के साथ मिली सवा करोड़ की राशि प्रधानमंत्री ने क्लीन गंगा मिशन हेतु दान में दे दी थी.

साढे़ तीन करोड़ नमामि गंगे को

प्रधानमन्त्री के रूप में अपने दोनो कार्यकालों के दौरान अभी तक प्राप्त हुए स्मृति चिन्हों की नीलामी से पीएम मोदी को लगभग साढ़े तीन करोड़ की राशि जमा प्राप्त हुई थी, उन्होंने उस धनराशि को महत्वपूर्ण नमामि गंगे अभियान के लिये समर्पित कर दिया था.

दी उपहारों की नीलामी-राशि 2015 में

लगभग छः साल पहले प्रधानमन्त्री मोदी ने स्वयं को मिले उपहारों की नीलामी करनी शुरू की थी. और इस दौरान ऐसी अनोखी औऱ प्रथम नीलामी हुई थी सूरत में. इस ऐतिहासिक आयोजन में हुई नीलामी में सवा आठ करोड़ की राशि इकट्ठा हुई थी जिसे पीएम मोदी ने सहर्ष नमामि गंगे मिशन में माँ गंगा के नाम अर्पित कर दिया गया था.

बेटियों के लिए इक्कीस लाख 2014 में

वर्ष 2014 में जब पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तब पीएम मोदी ने गुजरात से एक सुन्दर और स्मरणीय विदाई ली थी. उन्होंने तब राज्य सरकार के कर्मचारियों की बेटियों की पढ़ाई के लिए अपनी निजी बचत से इक्कीस लाख रुपये का निजी दान किया था.

नब्बे करोड़ का दान सीएम के तौर पर

गुजरात के मुख्यमन्त्री होने के दौरान अपने संपूर्ण कार्यकाल के दौरान मिले उपहारों को पीएम मोदी ने नीलाम कर के लगभग नब्बे करोड़ की राशि एकत्रित की थी औऱ इस बड़ी धनराशि को उन्होंने कन्या केलावनी फंड में दान कर दिया था.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति