लिख दूँ कुछ तुम पर मैं, प्रियतम

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

लिख दूँ कुछ तुम पर मैं प्रियतम

दिल मेरा ये चाह रहा है

पर दिल मे जो भाव भरा

वह शब्द निराले चाह रहा है

कैसे लिख दूँ प्रीत मैं अपनी 

इन साधारण से शब्दों में

मेरे प्रेम का सागर देखो

शब्दों की नई परिभाषा चाह रहा है !!

प्रेम में  तुम को कान्हा लिख दूँ

खुद को क्या लिख दूँ ये सोचूं

राधा सा मैं संग तो चाहूँ

पर मीरा सा भाव भरा है

तुम संग डोर जुड़ी जो मन की

गगन नया एक चाह रहा है

लिख  दूँ  कुछ तुम पर मैं प्रियतम

दिल मेरा ये चाह रहा है

पर दिल मे जो भाव भरा

वह शब्द निराले चाह रहा है !!

प्रेम लिखू मैं अपना जैसे

दीपक के संग जले पतंगा

या लिख दूँ ये प्रेम है ऐसा

सागर में जैसे हो नौका

तुझ में खो दूँ ये वजूद मैं

मिले न जिसको कोई किनारा

लिख  दूँ  कुछ तुम पर मैं प्रियतम

दिल मेरा ये चाह रहा है

पर दिल मे जो भाव भरा

वह शब्द निराले चाह रहा है !!

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति