पूछता है देश: राहुल आखिर क्यों तीन लड़कियों के पीछे छुप रहे हैं?

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

 

रफाल खरीद पर जब राहुल गाँधी पीएम मोदी को चोर कह रहे थे, तब लोकसभा में निर्मला सीतारमण ने 8 जनवरी, 2019 को इस खरीद से जुड़े हुए वित्तीय प्रावधानों को अच्छी तरह समझाया था.
राहुल गाँधी ने तब आरोप लगाया था कि 56 इंच की छाती होने का दावा करने वाला प्रधानमंत्री एक महिला के पीछे छुप गया और उसे कहा कि मुझे बचा लो मगर वो मोदी को बचा नहीं सकी.
26 जनवरी से आज तक 10 दिनों में दूसरी बार साबित हुआ है कि ये कोई किसान आंदोलन नहीं चल रहा बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर का षड़यंत्र चल रहा है मोदी के खिलाफ, मगर ये भेद खुलने में देर नहीं लगी. 26 जनवरी की हिंसा ने देश को ये साबित किया कि ये किसान आंदोलन नहीं है. ज़ीन्यूज़ पर सुधीर चौधरी ने कल 4 फरवरी की रात नौ बजे अपने कार्यक्रम डीएनए में इस पर बाकायदा सबूतों सहित विश्लेषण दे कर बताया था कि ये आन्दोलन दरअसल किसान आन्दोलन नहीं बल्कि एक भारत विरोधी आन्दोलन है.
अब कल एक अंतर्राष्ट्रीय साजिश का पर्दाफाश हुआ जब पता चला कि राहुल गाँधी एक नहीं तीन लड़कियों के पीछे छुपे हुए उन उनसे मदद मांग रहे थे कि हमारे फर्जी आंदोलन को बचा लो.
निर्मला सीतारमण तो देश की सभ्य महिला वित्त मंत्री हैं, वो अगर पीएम की मदद करें भी तो कुछ गलत नहीं है मगर राहुल जिन तीन लड़कियों के पीछे छुपे हैं, वो देखिये कौन हैं.
एक लड़की रिहाना है जो पॉप सिंगर है और पैसे ले कर इंस्टाग्राम और ट्वीट करती है; दूसरी मिया खलीफा है तो “पोर्न स्टार” बताई जाती है.
दूसरी है मियां खलीफा जिसको एक बार अपने देश अपनी जन्मभूमि जा कर देखना चाहिये, मानवाधिकार और स्वतंत्रता का पता चल जायेगा-अपने देश से तड़ीपार है और हम लोगो को ज्ञान दे रही है – सेक्स एब्यूज़ और चाइल्ड पोर्न के लिये इस पर कई देशों में केस चल रहे है.
रेहाना का तो पूछना ही क्या, इनके ऊपर, ड्रग्स लेने, विलुप्त पक्षियों और पशुओं के साथ बर्बरता के आरोप में, न्यूडिटी,पोर्न आदि के लिये कई देशों में बैन और अपने देश मे कई बार जेल जा चुकी है.
2014 में तो फेसबुक और इंस्टाग्राम ने रिहाना का एकाउंट ही सस्पेंड कर दिया था उनकी असहनीय न्यूडिटी के चक्कर में –
तीसरी है 18 साल की स्वीडन की ग्रेटा थन्बर्ग जिसको ये भी पता नहीं रहा कि वो अपने ट्वीट के साथ पूरा षड़यंत्र भी ट्विटर पर साझा कर रही है –और उन्होंने इस तरह किसान आंदोलन का पर्दाफाश कर दिया.
इतनी महान विभूतियों की त्रिमूर्ति में राहुल गाँधी सहारा ढूंढने चल पड़े और करने लगे –त्राहिमाम त्राहिमाम,हमारे,
मोदी को हटाने के फर्जी किसान आंदोलन को और हमें भी बचा लो.
वैसे कांग्रेस के अंधभक्तों को पहले विदेश से एंटोनियों की रूप में “माँ” मिली हुई थी लेकिन अब एक साथ विदेश 3 मौसियाँ भी मिल गईं -बड़े किस्मत वाले हैं ये चमचे.
(सुभाष चन्द्र)
“मैं वंशज श्री राम का”
========================================================
Disclaimer (अस्वीकरण) : इस लेख/ Blog में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NIG उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NIG के नहीं हैं, तथा NIG उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.
========================================================

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति