Russia-Ukraine War: हो गये अट्ठावन दिन पूरे

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

आज हो गये रूस यूक्रेन युद्ध के अट्ठावन दिन पूरे.

एक तरफ रूस अपनी बात मनवाने की जंगी जिद पर अड़ा है तो दूसरी तरफ यूक्रेन अपनी हार न मानने की जिद पर अड़ा है. ये जंगी दौर जो अपना दूसरा महीना पूरा करने जा रही है किस तरफ बढ़ रही है, अभी कहा नहीं जा सकता. क्या आने वाले दिनों में ये जंगी माहौल इतना बिगड़ जाएगा कि विश्व युद्ध कहीं शुरू न हो जाए – ये भी एक बड़ा सवाल है.

फिलहाल जंग के मैदान से सबसे अहम खबर है ये है कि अमेरिका ने यूक्रेन को आठ सौ मिलियन डॉलर्स की आर्थिक सहायता दी है जिसके लिए यूक्रेनी राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को धन्यवाद दिया है.

रूसी सैनिकों ने अब पूर्वी लुहान्स्क क्षेत्र को नियंत्रित किया है. यूक्रेन के दक्षिणी बंदरगाह शहर मारियुपोल में यूक्रेन-रूस संघर्ष के दौरान रूसी समर्थक सैनिकों को लगातार रूसी रसद पहुंचाई जा रही है और उनके बख्तरबंद वाहन वहां आते जाते नज़र आ रहे हैं.

रूस और यूक्रेन के बीच का युद्ध आज शुक्रवार को 58वें दिन में प्रवेश कर गया है जबकि रूसी सैनिकों ने पूर्वी यूक्रेन में आगे बढ़ने की अपनी कोशिशों को जारी रखा है. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दावा किया है कि उन्होंने मारियुपोल पर कब्जा कर लिया है और यूक्रेन के इस प्रमुख बंदरगाह शहर को “मुक्त” घोषित कर दिया है. रूसी सेना ने अब तक लुहान्स्क क्षेत्र का लगभग अस्सी प्रतिशत क्षेत्र अपने कब्जे में ले लिया है जिनसे मिल कर पूर्वी यूक्रेन में डोनबास बना है. क्षेत्रीय गवर्नर ने कहा कि मॉस्को सैनिक डोनबास से होते हुए क्रामटोरस्क की ओर बढ़ रहे हैं.

इस बीच, राष्ट्रपति जो बिडेन ने यूक्रेन के लिए अतिरिक्त सहायता में 1.3 बिलियन डॉलर्स की घोषणा भी की, जिसके अंतर्गत यूक्रेन को दी जाने वाली सैन्य सहायता हेतु $ 800 मिलियन डॉलर्स भी शामिल हैं.

यूक्रेन के प्रधान मंत्री डेनिस श्यामल, जो वाशिंगटन की यात्रा पर हैं, ने कहा कि उनके देश के पुनर्निर्माण के लिए $ 600 बिलियन का खर्च आएगा। जवाब में, अमेरिकी ट्रेजरी सचिव जेनेट येलेन ने प्रधान मंत्री से कहा कि रूस को उस बिल का हिस्सा बनाना संभव हो सकता है। उन्होंने रूसी तेल पर यूरोप के संभावित प्रतिबंध के बारे में भी आगाह किया और कहा कि इससे विश्व अर्थव्यवस्था को नुकसान हो सकता है.

उधर ब्रिटेन ने आरोप लगाया है कि यूक्रेन के प्रतिरोध को रोकने के लिए रूस ने अज़ोवस्टल प्लांट को अवरुद्ध किया है. एक अपडेट के अनुसार रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के यूक्रेन में अज़ोवस्टल स्टील प्लांट को अवरुद्ध करने का निर्णय संभवतः मारियुपोल में यूक्रेनी प्रतिरोध को रोकने की इच्छा की तरफ संकेत करता है. इस अपडेट में कहा गया है कि “रूस ने इस संयंत्र पर एक पूरा जमीनी हमला किया है जिसमे बड़ी संख्या में यूक्रेनी सेना के हताहत होने की खबर है जिसके कारण यहां यूक्रेनी प्रतिरोध में कमी आ सकती है.

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी ये जंग अपना असर दिखा रही है. अमेरिका ने चीन को चेतावनी दी है कि रूस के समर्थन की अपनी कोशिशों से बाज आये. एक वरिष्ठ अमेरिकी डिप्लोमेट ने कहा है कि अमेरिका ने यूक्रेन में व्लादिमीर पुतिन के युद्ध के लिए अपना “भौतिक समर्थन” देने की चीनी पेशकश की भर्त्स्ना की है और इसके लिए चीन को फिर से प्रतिबंधों की चेतावनी दी है. भारत के लिए यहां ये खबर है कि अमेरिका ने भारत को वचन दिया है कि भारत यदि रूसी हथियारों पर निर्भरता समाप्त करना चाहे तो उसके लिए अमेरिका पूरी मदद करने को तैयार है.

अमेरिका के उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमेन ने ब्रसेल्स में एक कार्यक्रम में कहा कि चीन रूसी दुष्प्रचार अभियानों को बढ़ावा देकर यूक्रेन की स्थिति को शांत करने में मदद नहीं कर रहा है. उन्होंने कहा कि उनको उम्मीद है कि बीजिंग रूस के युद्ध से “सही सबक” सीखेगा. उन्होंने कहा कि चीन चाहे भी तो ह अमेरिका को अपने सहयोगियों से अलग नहीं कर सकता.
नई खबर के अनुसार मारियोपोल में और भी सामूहिक कब्रें पाई गई हैं. सैटेलाइट से मिली ये तस्वीरें मारियुपोल के पास सामूहिक कब्रों को दिखाती हैं. इन सैटेलाइट छवियों में मारियुपोल क्षेत्र में सामूहिक कब्रों का एक नया झुण्ड दिखागया गया है. जिसके बाद यूक्रेनी अधिकारियों ने रूस पर बंदरगाह शहर की घेराबंदी में हो रही हत्याओं को छिपाने की कोशिश की है जिनका सबूत इन कब्रों से मिला है. इस आरोप के अनुसार 9,000 यूक्रेनी नागरिकों को इन कब्रों में दफनाया गया है.

बाइडन प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगियों द्वारा रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों का परिणाम सामने आने लगा है. उन्होंने कहा कि अब इन प्रतिबंधों के कारण रूस के उच्च तकनीक वाले सामानों के आयात में गिरावट दिखाई दे रही है जिससे रूस के विनिर्माण और सैन्य क्षेत्रों को नुकसान पहुंचा है. यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा है उनका तबाह हुआ मारियुपोल शहर आज भी हार मानने को तैयार नहीं है और अभी भी वहां रूसी सेना के साथ यूक्रेन की जंग जारी है. उधर जर्मनी ने भी यूक्रेन को आर्थिक मदद देने की घोषणा की है. यूक्रेन के पुनर्निर्माण के लिए जर्मनी अब उसे 3.7 करोड़ यूरो देने जा रहा है. जर्मन मीडिया ने जर्मनी विकास मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार यूक्रेनी मदद के इस जर्मन वायदे के बारे में बताया.

यूक्रेन को लेकर अमेरिका के प्रतिबंधों के जवाब में रूस ने कमला हैरिस, मेटा सीईओ और अमेरिका की 27 दूसरी महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय हस्तियों को अपने देश में प्रवेश करने से रोक दिया है. ये घोषणा रूसी विदेश मंत्रालय से सामने आई है.