Russia-Ukrine War: हो गये 59 दिन पूरे

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Russia -Ukraine War के 59 दिन हो गये हैं पूरे. फिलहाल वहां से आई जानकारी के अनुसार यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की अब चाहते हैं कि यूरोप के दूसरे देश भी युद्ध में कूद जाएँ. इसके लिए जेलेंस्की ने एक बयान दिया है जिसमे उन्होंने कहा है कि रूस का यूक्रेन पर हमला केवल एक शुरुआत है. मेरी चेतावनी है कि रूस अब आगे यूरोपियन देशों पर भी हमला करेगा और उन पर भी कब्जा करेगा.

उस तरफ से रूसी जनरल ने अपने बयान में कहा कि हम दक्षिणी यूक्रेन पर पूर्ण नियंत्रण चाहते हैं. ज़ाहिर है कि अब तक पूर्वी यूक्रेन पर हमले तेज़ करने वाला रूस दक्षिणी यूक्रेन की तरफ मुड़ गया है. पूर्वी और दक्षिणी यूक्रेन पर नियंत्रण करके वह आधे यूक्रेन को अपने कब्जे में ले लेना चाहता है.

रूस ने अपने बयान पर अमल करते हुए पिछले 24 घंटों में खारकीव पर 56 बार हमला किया है.

हारते हुए भी हार न मानने वाले राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने कल रात वीडियो माध्यम से देश के नाम एक संदेश दिया. अपने संदेश में जेलेंस्की ने रूस के खिलाफ दूसरे देशों को संगठित करने की कोशिश की है. अपने सन्देश में उन्होंने अपने भावपूर्ण वक्तव्य में कहा कि “सभी राष्ट्र जो हमारी तरह मृत्यु पर जीवन की जीत में विश्वास करते हैं, उन्हें हमारे साथ लड़ना चाहिए। उन्हें हमारी मदद करनी चाहिए, क्योंकि हम पहली पंक्ति में हैं। अब हमारे साथ आगे और कौन आएगा?”

रूसी सेना के डिप्टी कमांडर रुस्तम मिनेकेयेव ने मीडिया में कहा कि दक्षिणी यूक्रेन पर पूर्ण नियंत्रण से रूस की पहुँच ट्रांसनिस्ट्रिया तक हो जायेगी, जो पश्चिमी हिस्से में मोल्दोवा का एक अलग रूसी-कब्जे वाला भूभाग है.

मोल्दोवा के विदेश मंत्रालय ने इस वक्तव्य की गंभीरता को समझ कर उस पर रूसी कमांडर की टिप्पणी पर “गहरी चिंता” व्यक्त की और इसके लिए कल उन्होंने मास्को के राजदूत को तलब किया था. सभी जानते हैं कि रूस यूक्रेन युद्ध मामले में मोल्दोवा तटस्थ है. माल्डोवा ने तो मार्च में ही औपचारिक रूप से यूरोपीय संघ में शामिल होने के लिए आवेदन कर दिया था. इस आवेदन के बाद से माना जा रहा था कि माल्दोवा रूस के खिलाफ पश्चिमी समूह में शामिल होने की भूमिका बना रहा है.

उधर यूक्रेन के बंदरगाह शहर मारियोपोल में संघर्ष जारी है. रूस की सेना के दबाव के बावजूद यूक्रेनी सेना ने हथियार नहीं डाले हैं. रूसी सेना से घिरे बंदरगाह शहर मारियुपोल में अज़ोवस्टल स्टील फैक्ट्री में छिपे हुए सैकड़ों नागरिकों के लिए डर बढ़ता जा रहा है – क्योंकि अब वे भी जान गए हैं कि यूक्रेनी लड़ाकों की अंतिम टुकड़ी ही जंग में बची है.
रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अगर यूक्रेन की सेना ने आत्मसमर्पण किया तो वह नागरिकों को स्टीलवर्क छोड़ने की अनुमति देने के लिए तैयार है. उसके विपरीत मारियुपोल के मेयर के कार्यालय से जारी किये गए बयान के अनुसार रूसी सेना की इस संयंत्र पर बमबारी जारी है.

हाल ही में मारियोपोल के बाहर एक और सामूहिक कब्र पाई गई है. ये जानकारी मारियोप्ल शहर के महापौर कार्यालय से सामने आई है. प्लैनेट लैब्स द्वारा उनको प्रदान की गई एक उपग्रह तस्वीर में एक सामूहिक कब्रें दिखाई गई थीं जिनमे शहर के लगभग 1,000 निवासियों के शवों के होने की आशंका है.

यूक्रेन की उप प्रधान मंत्री, इरीना वीरेशचुक के बयान के अनुसार आज शनिवार को मारियुपोल से एक मानवीय गलियारा खोला जा सकता है जिसके माध्यम से शहर खाली करके जा रहे लोगों को बाहर निकाला जाएगा.

ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने अपने नवीनतम खुफिया अपडेट में कहा कि रूस के रक्षा मंत्री, सर्गेई शोइगु युद्ध में नए तरीकों को आजमा सकते हैं जबकि मूल रूप से उनका इरादा यूक्रेनी विरोध को दबाने के लिए बमबारी पर निर्भर रहने का है.

अमेरिकी विदेश मंत्री, एंटनी ब्लिंकन ने रूस के प्रमुख विपक्षी नेता व्लादिमीर कारा-मुर्ज़ा की रिहाई की अपील की है. मास्को में 11 अप्रेल को कारा-मुर्ज़ा द्वारा सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार के बाद हिरासत में ले लिया गया था. इस साक्षात्कार में उन्होंने यूक्रेन में रूस के कार्यों की आलोचना की थी।

संयुक्त राष्ट्र युद्ध शान्ति के लिए बड़ा कदम उठा रहा है. संयक्त राष्ट्र के प्रमुख, एंटोनियो गुटेरेस, इस रक्तपात को समाप्त करने के लिए अगले सप्ताह मास्को में पुतिन से मुलाकात करने जा रहे हैं. वे यूक्रेन में जेलेंस्की से भी मुलाकात कर सकते हैं.

फिलहाल तुर्की द्वारा कराई जा रही शान्ति वार्ता में किसी तरह की संभावना नहीं दिख रही क्योंकि रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के अनुसार अब रूस और यूक्रेन के बीच बातचीत फिर से ठप हो गई है.

पेंटागन से जारी कियेगए बयान में कहा गया है कि मेरिकी सेना को उम्मीद है कि 20 से अधिक देश यूक्रेन-केंद्रित रक्षा वार्ता में भाग लेंगे, जिसकी मेजबानी अगले सप्ताह जर्मनी में होगी. यहां यूक्रेन की दीर्घकालिक रक्षा जरूरतों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा.