सोशल मीडिया: बोतल बंद विदेशी पानी और भारत के बलिदानी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
ये एक ऐसी जानकारी है जो आपकी आँखें खोल देगी.
बिसलेरी-एक्वाफिना और इसी तरह की तमाम विदेशी कंपनियां हैं, जो बंद बोतल में पानी बेचती हैं और हमारा पैसा देश के बाहर जाता है. ये कदाचित सभी नहीं जानते हैं.
इस तथ्य को ही दृष्टि में रख कर ये आलेख भारत के नागरिकों से एक निवदेन करता है.  अब जब भी आप घर से बाहर बोतल बंद पानी खरीदें, तो दुकानदार से अब आप “सेना जल” माँगा कीजिये चाहे वो आपका रेल सफर, हवाई यात्रा या कहीं का भी कोई बाज़ार हो.
सेना जल देश में प्रायः सभी जगह उपलब्ध है. यह सस्ता भी है और इसे  भारतीय सेना की एक एसोसिएशन बनाती है.
भारतीय सेना अर्थात देश की सेना, जिसका हम पर उपकार भी है और जिसका देश की भाँति ही हम सम्मान भी करते हैं.  किन्तु प्रत्येक भारतीय को ये जानना चाहिये कि भारतीय सेना सिर्फ देश की सुरक्षा ही नहीं करती, इसके अलावा भी कई  काम करती है.
जी हाँ, जैसे प्राकृतिक आपदाओं, दुर्घटनाओ में विशेष राहत कार्य करती है. इसके अतिरिक्त भारतीय सेना के अपने पढाई के इंस्टिट्यूट भी चलते हैं, इंजीनियरिंग से लेकर मैनेजमेंट और मेडिकल पढाई होती है.
भारतीय सेना की आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन ने “सेना जल”  शुरु किया है. इसे लान्च किया है जनरल विपिन रावत जी की धर्मपत्नी श्रीमती मधुलिका रावत जी ने. ये पैक्ड पानी होता है. और मार्केट में आधे लीटर और एक लीटर के पैक में आता है.
इसका दाम देखेंगे तो आप समझ जायेंगे कि विदेशी बोतल बंद पानी वाली कंपनियाँ आपसे कितना पैसा वसूल करती हैं. सेना जल की आधे लीटर की कीमत सिर्प 6 रुपए है तो 1 लीटर वाले पैक की कीमत 10 रुपए. जबकि बाकी  कम्पनियाँ एक लीटर पानी आजकल 20 रुपए में बेचती हैं.
ये जो “सेना जल” है, इसका मुनाफा किसी को अमीर बनाने में इस्तेमाल नहीं किया जाता, बल्कि “सेना जल” का ‘पूरा’  प्रॉफिट आर्मी वेलफेयर एसोसिएशन में जाता है.
इसके विक्रय से एकत्रित धन का इस्तेमाल भारतीय सेना के शहीदों के परिवारों की मदद के लिए होता है. उनके बच्चों की पढाई इत्यादि के लिए पैसे का इस्तेमाल किया जाता है.
अब आइये मुद्दे की बात पर. चूँकि ये पानी भारतीय सेना बनाती है, इसलिए इसका टीवी मीडिया, अखबारों में ज्यादा प्रचार नहीं होता .चूंकि सेना के पास ऐसे प्रचार के लिए अलग  बजट  नहीं होता  है. और शायद यही इसके दाम कम होने की वजह भी है.
प्रचार की कमी की वजह से कम ही लोग सेना जल के बारे में जानते हैं. यहाँ आपका,  हमारा, हम सबका दायित्व है,  हम लोगों को ही इस प्रचार की कमान सम्भालनी होगी.इसलिए,अब कभी भी बाजार से पैक्ड पानी खरीदना हो तो दुकानदार से एक बार “सेना जल” जरूर मांगें. आशंका है कि वो न मिले.
पर हम-आप प्रयास करके ये प्रचलन प्रारंभ करके देखें. जब डिमांड आयेगी तो ये दुकानदार भी सेना जल रखने लगेंगे.
और फिर मुनाफा विदेश नहीं जायेगा, ये मुनाफा जायेगा देश के लिये, देश के हित के लिए. शहीदों के परिजनों के लिए. और ये हमारी तरफ से शहीदों के परिवारों की एक सहायता भी होगी.
और  ये पानी दूसरे ब्रान्डेड पानी से सस्ता भी होगा और इसकी शुद्धता की भी गारंटी होगी. हमारा भी फायदा, देश का भी और सेना का भी. हमारा एक छोटा कदम बड़ा परिवर्तन ला सकता है.