South Africa में मिले Corona Variant से दुनिया में हड़कंप, भारत में पीएम ने बुलाई बैठक

अब आया है सबसे किलर कोरोना वेरिएंट, जिसके सामने वैक्सीन और बूस्टर फेल

कोरोना की वैक्सीन बना कर इस महामारी पर काफी हद तक काबू पा लेने के बाद अब एक नए वेरिएंट ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों के होश उड़ा दिए हैं. साउथ अफ्रीका से कोरोना का नया वेरिएंट सामने आया है जो कि अब तक का सबसे खतरनाक वेरिएंट बताया जा रहा है. इस वेरिएंट पर किसी भी वैक्सीन या बूस्टर डोज़ का असर नाकाफी माना जा रहा है. वैज्ञानिकों ने इस वेरिएंट को B1.1.529 नाम दिया है.साउथ अफ्रीका के वाइरोलॉजिस्ट के मुताबिक ये वेरिएंट मल्टीपल म्यूटेशन वाला है.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (W HO) ने कोरोना के नए रूप B.1.1529 को ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ घोषित किया है. WHO ने द अफ्रीका मिले इस वेरिएंट का नाम Omicron रखा है. 

साउथ अफ्रीका में पहली बार मिला वेरिएंट

खतरनाक B1.1.529 वेरिएंट कई देशों में पाया गया है जिससे हड़कंप मच गया है. साउथ अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना में इसके मामले सामने आए हैं. दक्षिण अफ्रीका में इस वेरिएंट के 22 मामले सामने आए हैं. 24 नवंबर को पहली बार दक्षिण अफ्रीका में मिला.

दरअसल कोरोना की दोनों डोज़ ले चुके लोग भी इस ओमीक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित हुए हैं. वहीं बूस्टर डोज़ लगवा चुका इज़राइल का एक नागरिक भी इससे संक्रमित हुआ है. ऐसे में डेल्टा वेरिएंट की कैटेगरी में रखे गए ओमीक्रॉन वेरिएंट पर वैक्सीन की प्रभाविकता का असर दिखाई नहीं दे रहा है.

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन ने भारत की भी चिंता बढ़ा दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मामले में आज उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है. कोरोना के ताजा हालात और देश में वैक्सीनेशन को लेकर पीएम मोदी आला अफसरों के साथ बैठक करेंगे.कर्नाटक, तेलंगाना, राजस्थान, ओडिशा समेत देश के अलग-अलग राज्यों में स्कूल खुलने के बाद छात्र और शिक्षकों के कोरोना की चपेट में आने के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं.

साउथ अफ्रीका से आने वाली फ्लाइटों पर अमेरिका और यूरोपीय देशों की रोक

Omicron वेरिएंट को लेकर अमेरिका और यूरोपीय देशों ने दक्षिणअफ्रीका से आने वाली फ्लाइटों पर रोक लगा दी है. साथ ही अफ्रीका और आसपास के देश से आने वाले यात्रियों को क्वारंटीन भी किया जा रहा है. कनाडा में पिछले 14 दिनों में अफ्रीका से आने वाले नागरिकों का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है. उन यात्रियों को कोरोना टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आने तक क्वारंटीन रहना होगा.