Tokyo Olympics 2020: खेलों के उत्सव में हाथ मिलाने पर बंदिश और गले मिलने पर पाबंदी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
वैश्विक महामारी की वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए इस बार 2021 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक समारोह के कार्यक्रमों में काफी बदलाव किये गये हैं. इस बार टोक्यो ओलंपिक में किसी भी खिलाड़ी को ओलंपिक मेडल नही पहनाया जायेगा .
तीन सौ उनतालिस स्पर्धाओं के उपरान्त पदक समारोह में कोविड-19 के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए कुछ बदलाव किये जाने की बात IOC अध्यक्ष थॉमस बाक ने कही है . ओलंपिक में विभिन्न स्पर्धाओं में मेडल जीतने वाले प्रतिभागियों को इस जानलेवा संक्रमण से बचाने के लिए स्वयं अपने गले में पदक डालने होंगे . इस आयोजन के दौरान कोई भी एक-दूसरे को न ही स्पर्श करेगा , न ही गले लगेगा और हाथ मिलाने जैसी औपचारिकताएँ होंगी.
अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) के अध्यक्ष थॉमस बाक ने इस बात का खुलासा बुधवार को किया . इस वर्ष टोक्यो ओलंपिक का आयोजन 23 जुलाई से 8 अगस्त के मध्य जारी रहेगा .
‘कॉन्फ्रेंस कॉल’ पर थॉमस बाक ने मीडिया से कहा कि ‘पदकों को गले में डालकर नहीं दिया जाएगा.’ उन्होंने ये भी कहा कि ‘‘पदक खिलाड़ी को ट्रे में पेश किए जाएंगे और फिर एथलीट पदक लेकर खुद अपने गले में डालेंगे.”
उन्होंने ये भी बताया कि ‘‘साथ ही यह सुनिश्चित किया जाएगा कि जो भी व्यक्ति ट्रे में पदक रखेगा, वह कीटाणुरहित दस्ताने पहनकर ही इन्हें ट्रे में रखेगा, ताकि सुनिश्चित हो कि किसी ने भी पदकों को छुआ नहीं हो.’’
ओलंपिक में इस दफा ये बंदोबस्त कोरोना वायरस के इंफेक्शन से रोकथाम के लिये किये जा रहे हैं. काफी सावधानियाँ बरती जा रही है ताकि यह महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल-स्पर्धा का आयोजन शांतिपूर्वक तरीके से हो सके . ज्ञातव्य है कि यूरोप के फुटबॉल मैच के दौरान यूएफा अध्यक्ष एलेक्सांद्र सेफेरिन ने प्रतिस्पर्धा के फाइनल में खिलाड़ियों के गले में मेडल स्वयं ही पहनाए थे .
ऐसे लापरवाही के उदाहरण और भी हैं कि महोदय सेफेरिन ने इटली के गोलकीपर जियालुइगी डोनारूम्मा को उनके लाजवाब प्रदर्शन पर (रविवार)लंदन में यूरो 2020 पदक और ट्रॉफी प्रदान कर हाथ भी मिलाया .
लेकिन IOC अध्यक्ष थॉमस बाक ने बुधवार को ये निश्चित तौर पर कह दिया है कि इस बार टोक्यो ओलंपिक में ‘’समारोह के दौरान कोई भी एक-दूसरे से हाथ नहीं मिलाएगा और न ही कोई किसी को गले लगाएगा.’’