अद्भुत गणितज्ञ थे तुलसीदास जी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
*अदभुत गणितज्ञ परम आदरणीय “श्री तुलसीदासजी”* *महाराज*…. से एक भक्त ने पूछा कि…
महाराज आप श्रीराम के इतने गुणगान करते हैं , क्या कभी खुद श्रीराम ने आपको दर्शन दिए हैं ?..
तुलसीदास बोले :- ” हां “
भक्त :- महाराज क्या आप मुझे भी दर्शन करा देंगे ???
तुलसीदास :- ” हां अवश्य ” ….तुलसीदास जी ने ऐसा मार्ग दिखाया कि एक गणित का विद्वान भी चकित हो जाए  !!!
*तुलसीदास जी ने कहा , “”अरे भाई यह बहुत ही आसान है  !!! तुम श्रीराम के दर्शन स्वयं अपने अंदर ही प्राप्त कर सकते हो.””*
*हर नाम के अंत में राम का ही नाम है.*
इसे समझने के लिए तुम्हे एक *”सूत्रश्लोक “* बताता हूं .
यह सूत्र किसी के भी नाम में लागू होता है !!!
भक्त :-” कौनसा सूत्र महाराज ?”
*तुलसीदास* :- यह सूत्र है …
*||”नाम चतुर्गुण पंचतत्व मिलन तासां द्विगुण प्रमाण || || तुलसी अष्ट सोभाग्ये अंत मे शेष राम ही राम || “*
 इस सूत्र के अनुसार
★ *अब हम किसी का भी नाम ले और उसके अक्षरों की गिनती करें*…
*१)उस गिनती को (चतुर्गुण) ४ से गुणाकार करें*.
*२) उसमें (पंचतत्व मिलन) ५ मिला लें.*
*३) फिर उसे (द्विगुण प्रमाण) दुगना करें.*
*४)आई हुई संख्या को (अष्ट सो भागे) ८ से विभाजित करें .*
*”” संख्या पूर्ण विभाजित नहीं होगी और हमेशा २ शेष रहेगा!!!  …
*यह २ ही “राम” है। यह २ अंक ही ” राम ” अक्षर हैं*…
★विश्वास नहीं हों रहा है ना???
चलिए हम एक उदाहरण लेते हैं …
आप एक नाम लिखें , अक्षर कितने भी हों  !!!
★ उदा. ..निरंजन… ४ अक्षर
१) ४ से गुणा करिए  ४x४=१६
२)५ जोड़िए  १६+५=२१
३) दुगने करिए २१×२=४२
४)८ से विभाजन करने पर  ४२÷८= ५ पूर्ण अंक , शेष २ !!!
*शेष हमेशा दो ही बचेंगे,यह बचे २ अर्थात्  – “राम” !!!*
*विशेष यह है कि सूत्रश्लोक की संख्याओं को तुलसीदासजी ने विशेष महत्व दिया है*!!!
★1) *चतुर्गुण* अर्थात् *४ पुरुषार्थ* :- *धर्म, अर्थ, काम,मोक्ष* !!!
★2) *पंचतत्व* अर्थात् ५ *पंचमहाभौतिक* :- *पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु , आकाश*!!!
★3) *द्विगुण प्रमाण* अर्थात् २ *माया व ब्रह्म* !!!
★4) *अष्ट सो भागे* अर्थात् ८ * *आठ प्रकार की लक्ष्मी* (आग्घ, विद्या, सौभाग्य, अमृत, काम, सत्य, भोग आणि योग
लक्ष्मी ) अथवा तो अष्ठधा प्रकृति.
★अब यदि हम सभी अपने नाम की जांच इस सूत्र के अनुसार करें तो आश्चर्यचकित रह जाएंगे कि हमेशा शेष २ ही प्राप्त होगा …
इसी से हमें श्री तुलसीदास जी की  बुद्धिमानी और अनंत रामभक्ति का ज्ञान होता है !!