UP: Yogi का आपरेशन क्लीन और समस्यायें हुईं क्लीन बोल्ड

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ अपने कठोर प्रशासन और राष्ट्रवादी नेतृत्व के लिये जाने जाते हैं| उनकी ‘कथनी’ और ‘करनी’ में कोई अंतर कभी नहीं होता|
6 जुलाई सोमवार को गोरखपुर में राप्ती नदी के मलौनी बांध पर स्थित तरकुलानी रेगुलेटर के पास रेगुलेटर और वन निर्मित पम्पिंग स्टेशन के लोकार्पण कार्यक्रम में उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए बेबाक अंदाज़ में संवाद स्थापित किया। कार्यक्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उपस्थित थे|

योगी का बेबाक अंदाज़

अपनी जनता को संबोधित करते हुए मंच से ही सीएम योगी ने प्रश्न किये कि ”सरकार को अपराधियों की छाती पर बुलडोज़र चलवाने चाहिये या नही? ..आप लोग सरकार द्वारा की जा रही इस कार्यवाही का विरोध तो नही कर रहे? जनता सरकार के साथ है ना?” – उनके प्रश्नों के उत्तर में जनता ने भी जोर से आवाज़ लगाई – हाँ !
योगी जी ने जनता को ये आश्वासन दिया कि सरकार अपराधियों और उपद्रवियों की संपत्ति को जब्त कर ग़रीबों में बाँट रही है| जिस प्रकार सरकार उपद्रवियों के सीने पर बुलडोज़र चला रही है, उसी प्रकार समाज के अन्य विषैले तत्वों पर भी कठोर कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार विकास के साथ ‘स्वच्छता’ भी है।

शुद्ध पेय जल-व्यवस्था की घोषणा

मुख्यमंत्री योगी जी ने इस अवसर पर जल जीवन मिशन के अंतर्गत ‘हर घर नल से शुद्ध पेयजल’ परियोजना दिसंबर माह तक शुरू करने की घोषणा की| जिसका लाभ सूबे के 50 हजार राजस्व गाँव वालों को मिलेगा| उन्होंने ये भी जानकारी दी कि बुंदेलखंड और विंध्‍य क्षेत्र में इस परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। घर-घर शुद्ध पेयजल उपलब्ध होने पर  इंसेफेलाइटिस जैसी बीमारी से भी छुटकारा मिल जायेगा। इस योजना के तहत गंदे और अशुद्ध जल को शुद्ध और पीने लायक बनाया जायेगा ताकि गाँव वालों की समस्याओं का समाधान हो सके|

तरकुलानीे विकास पर बड़े फैसले

केंद्रीय और प्रदेश जल-शक्ति मंत्री ने तरकुलानी विकास हेतु 172 करोड़ की 30 परियोजनाओं का लोकार्पण किया। 39.65 करोड़ की 15 परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया गया| इनमें गोरखपुर मंडल में बाढ़ नियंत्रण की 145 करोड़ से अधिक की 10 परियोजनाएं भी शामिल रहीं। इसके अलवा 10 सड़कें, 2 उपरगामी सेतु और 6 विद्यालयों का निर्माण कार्य भी भावी योजना में शामिल हैं।
इस अवसर पर मुख़्मंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि जब डबल इंजन की सरकार होती है तो विकास कार्यो की रफ्तार कई गुना अधिक हो जाती है क्योंकि केंद्र और प्रदेश दोनों में ही बीजेपी की सरकार है और डबल इंजन की सरकार लोगों के जीवन में कई गुना अधिक तीव्र गति से खुशियाँ ला सकती है|

पचास हज़ार परिवारों की जिम्मेदारी

तरकुलानी रेगुलेटर और निर्मित पंपिंग स्टेशन का क्षेत्र साल 2009 में गोरखपुर संसदीय क्षेत्र में आया था| तभी से यहां पंपिंग स्टेशन की मांग पर ज़ोर दिया जा रहा था। इस परियोजना में लोक-कल्याण हेतु 50 हजार परिवारों की 2 लाख की आबादी को बीमारी से बचाने के एजेंडे भी शामिल हैं| सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया कि आज से ही इन पम्पिंग स्टेशन्स की सुविधाएँ और सेवाएं शुरू हो जायेगीं|
इस पंपिंग स्टेशन की कार्य-क्षमता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि गोरखपुर के रामगढ़ताल में जितना पानी है, उसे यह पम्पिंग स्टेशन एक घण्टे में उड़ेलकर फेंक सकता है। यह परियोजना इस क्षेत्र में खेती को बचाने में भी लाभदायक सिद्ध होगी| किसान-वर्ग रबी और खरीफ दोनों ही प्रकार की फसलें उगा पाएंगे। पम्पिंग स्टेशन के अभाव में जल-जमाव से बीमारियाँ होती रही है। तरकुलानी का यह पम्पिंग स्टेशन अब वॉटर-ब्लॉकेज की इस समस्या का समाधान भी कर देगा और इंसेफेलाईटिस जैसी बीमारी से जो मुख्य रूप से जल-जमाव के कारण उत्पन्न होती है समाप्त हो जायेगी|

रेगुलेटर बना उपहार

एक सांसद की भूमिका का निर्वाह करते हुए ही योगी आदित्यनाथ ने 47 गाँवों को बाढ़ के पानी से बचाने के लिये रेगुलेटर के विस्तार और पम्पिंग स्टेशन के निर्माण के लिये प्रयास प्रारम्भ कर दिया था।  उन्होंने मुख्यमंत्री बनने (2017)के तीन माह के भीतर ही केंद्रीय जल आयोग से इसके निर्माण की स्वीकृति ले ली| इसका निर्माण कार्य 1 फरवरी 2018 से शुरू हुआ| 85 करोड़ की लागत से बने इस पम्पिंग स्टेशन का लोकार्पण 5 जुलाई 2021 (यानि कल )सोमवार को हुआ था|
इस परियोजना के तहत 838 हेक्टेयर कृषि-भूमि लाभान्वित होगी| विशेष-ऋतु में जलमग्न भूमि जैसी गंभीर समस्या का समाधान होगा| अब किसान दोनों प्रकार की फसलों(रबी और खरीफ) को उगा पायेगें| इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत 11 पंपिंग स्टेशन में अदद 30 क्यूसेक पंप, 3 अदद 10 क्यूसेक पंप, 5 अदद 625 केवीए डीजल जेनरेटर सेट और सक्शन टैंक की सुविधा उपलब्ध कराई गई है और इसके फीडर चैनल की लंबाई 280 मीटर है।

गोरखपुर खाद कारखाने का लोकार्पण

सन् 1990 से बंद गोरखपुर खाद कारखाने का लोकार्पण प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के हाथों होने की जानकारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने दी | यह कारखाना अक्टूबर में पूरी तरह बन कर तैयार हो जायेगा | इसके अलावा विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाओं वाले अस्पताल एम्स का उद्घाटन भी प्रधानमंत्री मोदी के हाथों ही किये जीने की घोषणा भी की | योगी आदित्यनाथ ने ये भी बताया कि रामगढ़ताल कभी अपराधियों का गढ़ हुआ करता था, जिसकी काया-पलट हो गई है और अब ये एक सुंदर पर्यटन-स्थल बन चुका है। इसकी सुंदर छटा के आगे मुंबई जैसी सपनों की नगरी भी पानी भरती है। अक्सर अब यहाँ फिल्मों की शूटिंग होती है।

कोरोना-मृतकों के प्रति संवेदना

कोरोना-काल मेंअपने प्रियजनों को खो देने वाले प्रदेश के लोगों के प्रति मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संवेदना जताई| ये भी कहा कि देश की बागडोर पीएम नरेंद्र मोदी जैसे कुशल कार्यकर्ता के हाथों में है,जो देश की सुरक्षित स्थिति को सुनिश्चित करता है। सिर्फ 33 करोड़ की जनसंख्या वाले अति समृद्ध देश संयुक्त राष्ट्र अमेरिका 133 करोड़ आबादी वाले भारत की तुलना में ज़्यादा मौतें हुईं हैं| ये सब पीएम नरेन्द्र मोदी की सुंदर सूझ-बूझ से सम्भव हो पाया है|
मुख्यमंत्री ने कहा कि जीवन और जीविका की सुरक्षा के लिए प्रयास करते हुए हमारे पीएम ने हमें जागरूक और आत्म-निर्भर भी बनाया है| जहाँ पिछले डेढ़ वर्षों से पूरे विश्व केे लिए समय बहुत खराब चल रहा है, वहीं हमारा देश इस वैश्विक महामारी के दौर में भी विकास के मामले में सकारात्मक रूप से आगे बढ़ रहा है और नयी पीढ़ी के सुंदर भविष्य के लिये भी प्रयत्नशील है |