रिजवी बने त्यागी, वक्फ बोर्ड के पूर्व चैयरमेन वसीम रिजवी को महंत यति नरसिंहानंद गिरि ने सनातन धर्म में किया शामिल

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चैयरमेन वसीम रिजवी (Waseem Rizvi) ने गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर में किया हिंदू धर्म ग्रहण

Wasim Rizvi Hinduism: अक्सर अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में रहने वाले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चैयरमेन वसीम रिजवी (Waseem Rizvi) ने आज हिंदू (Hindu) धर्म ग्रहण कर लिया है. धार्मिक रीति रिवाज से यति नरसिंहानंद गिरि महाराज के माध्यम से उन्होंने सनातन धर्म ग्रहण किया. वसीम रिजवी ने कहा कि मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया गया है, हमारे सिर पर हर शुक्रवार को ईनाम बढ़ा दिया जाता है, आज मैं सनातन धर्म अपना रहा हूं.

यति नरसिंहानंद सरस्वती ने सनातन धर्म ग्रहण कराया

गाजियाबाद में यति नरसिंहानंद सरस्वती ने वसीम रिजवी को सनातन धर्म में शामिल कराया.  उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद गिरि ने कई अनुष्ठान किए. इस मौके पर यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा कि हम वसीम रिजवी के साथ हैं, वसीम रिजवी त्यागी बिरादरी से जोड़ेंगे. बड़ी संख्या में हिंदू धर्मगुरुओं ने वसीम रिजवी के हिंदू बनने पर स्वागत किया है. वसीम रिजवी का नाम हरबीर नारायण सिंह त्यागी हो गया है.

कुरआन की 26 आयतों को दी थी चुनौती

इस्लाम में रिफॉर्म में मांग कर चुके वसीम रिजवी का दावा है कि उन्हें कई बार जान से मारने की धमकी मिल चुकी है. वसीम रिजवी ने कुरान की आयतें हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. उन्होंने कुरान की 26 आयतों को आतंकवाद को बढावा देने वाला बताया था, हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को खारिज करते हुए रिजवी पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था.

हिंदू रीति रिवाज से हो अंतिम संस्कार

वसीम रिजवी ने कुछ दिन पहले ही अपनी वसीयत जारी की थी. इसमें उन्होंने ऐलान किया था कि मरने के बाद उन्हें दफनाया न जाए, बल्कि हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया जाए. उन्होंने कहा था कि यति नरसिम्हानंद उनकी चिता को अग्नि दें. रिजवी ने एक वीडियो जारी कर कहा था कि मेरी हत्या करने और गर्दन काटने की साजिश रची जा रही है. मेरा गुनाह सिर्फ इतना है कि मैंने कुरान की 26 आयतों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. मुसलमान मुझे मारना चाहते हैं और ऐलान किया है कि मुझे किसी कब्रिस्तान में जगह नहीं देंगे. इसलिए मरने के बार मेरा अंतिम कर दिया जाए.