ये भी चल रहा है: एक हज़ार हिन्दुओं को मुसलमान बनाने का आरोपी मौलाना गिरफ्तार

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
ये भी हो रहा है भारत में. हिन्दुओं को हिन्दुओं के देश में ही मुसलमान बनाया जा रहा है. दुनिया के सबसे अधिक मुसलमान भारत में रहते हैं और सबसे आराम से वे इसी देश में रहते हैं. लेकिन चाहे वो कश्मीर से पंडितों का कत्लेआम करके उनको भगाना हो या देश में रह कर पाकिस्तान का समर्थन करना हो या देश के किसी कोने में बैठ कर आज़ादी की मांग करके अपना अलग देश बनाने की सोच हो – कुछ न कुछ ऐसा होता रहता है कि हिन्दुओं को असहिष्णु बताने वाले खुद ही कटघरे में खड़े दिखाई देते हैं. भारत ही ऐसा देश है जिसने आक्रांता मुगलों को भी अपना लिया था लेकिन इसी कारण आज भारत की सनातन संस्कृति संकट में दिखाई देती है.

उत्तरप्रदेश में धरा गया मौलाना

एक हजार हिंदुओं को मुस्लिम बनाने का ये आरोपी मौलाना उत्तर प्रदेश में पकड़ा गया है जो कि एक दूसरे मौलाना के साथ मिल कर मुसलमान बनाने का धंधा चला रहा था. इन मौलानाओं पर आरोप है कि इसने एक हज़ार हिन्दुओं को मुसलमान बनाया था. यूपी में ये मौलाना एंटी टेररिस्ट स्क्वाड के हत्थे चढ़ गए थे जिसने इनको गिरफ्तार करने में देर नहीं लगाईं. पता चला है कि इन मौलानाओं को पाकिस्तान से ISI करता था फंडिंग.

लालच दे कर बनाते थे मुसलमान

हिन्दुओं को मुसलमान बनाने की फैक्ट्री चलाने वाले इन मौलानाओं से यूपी एटीएस की पूछताछ जारी है. अभी तक मिली जानकारी के अनुसार ये हिन्दुओं को लालच दे कर मुसलमान बनाया करते थे. उनको रुपए, नौकरी और शादी का लालच देकर धर्मांतरण कराने वाला इनका एक पूरा गिरोह काम कर रहा था. आज सोमवार को पकड़े गए इन कट्टरपंथी गैंगबाजों के गिरोह दोनो सदस्य मौलाना हैं और काजी जहांगीर आलम और मोहम्मद उमर गौतम के नाम से जाने जाते हैं.

पुलिस ने की प्रेसवार्ता

आज सोमवार को लखनऊ पुलिस ने एक प्रेसवार्ता करके इस गिरोह के पर्दाफ़ाश की जानकारी दी. डीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि धर्मांतरण कराने वाले इस गिरोह पर अब तक एक हजार लोगों को धर्मांतरण करके मुस्लिम बनाने का आरोप है. चौंकाने वाली बात ये भी है कि इस गैंग को पकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी ISI से फंडिंग मिलती थी.

गरीब हिन्दुओं को बनाते थे निशाना

प्रेसवार्ता में लखनऊ पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपी मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी दिल्ली के जामिया नगर इलाके के रहने वाले हैं. इन दोनों आरोपियों पर न केवल उत्तर प्रदेश में बल्कि कुछ प्रदेशों में भी धर्मांतरण कराने का आरोप है. ये शातिर गिरोह गरीब हिंदुओं को निशाना बनाया करता था और उनको लालच दे कर इसने अभी तक एक हजार से अधिक हिंदुओं का धर्मांतरण करा दिया है.

दिव्यांगों को भी बनाते थे शिकार

प्राप्त जानकारी के अनुसार पकड़े गए ये दोनों मौलाना अधिकतर मूक-बधिर लोगों और महिलाओं को अपना शिकार बना कर उनका धर्म परिवर्तन करवाते थे. इसके लिए उमर और उसके साथियों ने बाकायदा एक धर्म परिवर्तन कराने का सेंटर दिल्ली में बनाया हुआ था. इसे IDC नाम दिया गया था.IDC अर्थात Islamic Dawah Center और इसके कार्यालय का पता था – C 2, जोगाबाई एक्सटेंशन, जामिया नगर, नई दिल्ली.

जामिया नगर में चल रहा था अड्डा

जामिया नगर पहले भी इस तरह की कट्टरपंथी हरकतों के कारण बदनाम है. यहां इस्लामिक दावा सेंटर नाम की ये संस्था चलाई जा रही थी जिसका काम गरीब और दिव्यांग हिन्दुओं को लालच देकर मुसलमान बनाना था. इस गिरोह को इस काम के लिए भारी विदेशी फंडिंग भी होती थी. इस गिरोह के हाथ इतने लम्बे थे कि ये लोग धर्मांतरण से सम्बंधित प्रमाण पत्र और विवाह के प्रमाण पत्र भी अवैध रूप से बनवा लेते थे.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति