NIG Comedy: जोर का झटका जोर से – बाहरवाली के चक्कर में पिटे घरवाली से

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

आज हम आपको बता रहे हैं हाल की एक सच्ची घटना.. जिसका नाम है जोर का झटका जोर से.. पति को बुलाया प्रेमिका बन कर फिर की बेचारे की धुलाई सहेलियों के साथ मिल कर.

जैसा करम करेगा वैसा फल देगा भगवान. ये है बड़े काम का ज्ञान. एक प्रेमिका के लिए दीवाने प्रेमी को मिला ये ज्ञान और वो भी व्यावहारिक रूप में. इस घटना से बहुत से ऐसे पतियों को भी सबक मिल गया है जो या तो ऐसा कर रहे थे या ऐसा करने वाले थे. अब वो समझ जाएंगे कि एकै साधे सब सधे सब साधे सब जाए. या तो रखो घरवाली या रखो बाहरवाली – एक टाइम में डबल टाइम.. खतरनाक सिद्ध हो सकता है.

आपकी पर्सनल लाइफ हो सकती है फैटल

वैसे तो ये हमारी सच्ची कहानी के किरदारों की  पर्सनल लाइफ है लेकिन इस पर्सनल लाइफ से जुडी घटना अब समाचार बन गई है और बहुत से ऐसे लोगों को मार्गदर्शन दे रही है जो अपनी एक पर्सनल लाइफ घर से बाहर भी रखते हैं. पर्सनल बिकम्स फैटल विथिन नो टाइम. अक्सर घर से बाहर वाले निजी जीवन की नियति बहुत दर्द देती है.

नो सवाल-जवाब, ओनली ऐक्शन

ये घटना है हरियाणा की किन्तु ऐसी बहुत सी घटनाएं हैं सारे देश और दुनिया में जो प्रायः प्रकाश में नहीं आती. इस घटना में दुहरी पिटाई को अंजाम दिया है पत्नी ने –  पहले पीटा गया पति की प्रेमिका को और फिर बुला कर पीटा गया पति को. दोनो ही घटनाओं में सवाल-जवाब घटनाओं के बाद में हुए.

सवाल ये है कि गलती किसकी थी?

अभी ये माना जा रहा है कि सारी गलती गुड़गांव में रहने वाले इन पतिदेव जी की है जिसने घर में पत्नी जी के होते हुए भी घर से बाहर प्रेम ढूंढा. वैसे कुछ लोगों की राय ये भी है कि गलती प्रेमिका की है कि क्यों वह शादीशुदा मर्द के चक्कर में पड़ी और किसी का बसा-बसाया घर उजाड़ने की साजिश की. लेकिन कुछ बड़े-बूढ़े ये भी कहते पाए जा रहे हैं कि गलती सारी पत्नी की है. इतनी छूट पति को क्यों दी कि उसने मौके का फायदा उठाया और घर से बाहर घर बसाया… घर में ही इतना प्रेम दे देती ..तो बाहर क्यों जाता भला?

घटना कुछ इस तरह शुरू हुई

एक पत्नी जी जिनका नाम हम नहीं बताएँगे, क्योंकि हमें भी पुलिस ने नहीं बताया है. ये पत्नी अपने पति से अब तक परेशां थी, भले ही अब नहीं है क्योंकि उन्होंने अब अपनी परेशानी दूर कर ली है. पत्नी को जानकारी मिली थी कि पति का किसी के साथ चक्कर चल रहा है. और पतिदेव की इस प्रेमिका का नाम था  मोना जिसे वो प्यार से मोना डार्लिंग कह कर भी पुकारा करते थे. परेशानी नाम से नहीं, काम से हुई पत्नीजी को..जब उनको पता चला कि दोनों के बीच सात जन्मों का साथ डेवलप हो गया है. बस इतनी सी बात पत्नी जी से सही नही गई, उनके तनबदन में आग लग गई. उन्होंने कसम खा ली कि अपने साथ हो रहे इस नाइन्साफी का प्रतिशोध ले कर रहेंगी.

अब आपको बताते हैं कि घटना किस तरह खत्म हुई और कहां जा कर खतम हुई..

शक हुआ तो हुआ मामला शुरू

हुआ ये कि पत्नी को शक हुआ तो उसने पति की जासूसी शुरू कर दी लेकिन दुर्भाग्य से वह किसी तरह का क्लू पाने में नाकाम रही. उसके बाद उसने अपनी कुछ ख़ास सहेलियों को बुला कर क्लोज डोर मीटिंग की. इस मीटिंग में योजना बनाई गई कि जैसे को तैसा दे दिया जाए.

तो बस अब इस योजना को अन्जाम देने के लिये  प्रेमिका याने मोना डार्लिंग के घर को चुना गया. पत्नी जी ने सभी सहेलियों संग मोना के घर पर धावा बोल दिया.. पहले तो उसकी जम कर पिटाई की उसके बाद उसको कमरे में बंद करके उसके कपड़े उतार करके उसका वीडियो भी बना डाला और अविलम्ब वायरल भी कर दिया.

लेकिन पिक्चर अभी बाकी थी

अब घटना के अगले हिस्से को अंजाम देने के बारे में सोचा गया और लगे हाथ ही ये वीडियो पति को भी भेज दिया प्रेमिका के मोबाइल से. प्रेमीजी जाने किस मूड में थे, झट से भागते हुए प्रेमिकाजी के घर पहुँच गये.. किन्तु वहां उनको लगा उनके जीवन का सबसे बड़ा झटका.. जब उन्होंने देखा कि मोना डार्लिंग के घर पर उनके घर की डार्लिंग बैठी हुई थीं वहां पत्नी अपनी सहेलियों संग जमी हुई हैं. पतिदेव के प्रकट होते ही  पत्नीजी ने सहेलियों संग शुरू कर दिया स्वागत और सबने मिल कर पति जी को अदरक की तरह कूटा जम के..

बेचारा बुरा फंसा.. पड़ोसियों से मदद के लिए चीख पुकार भी नहीं कर पाया.. कुटाई से बड़ा डर इज्जत जाने का था.

कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे

पिटते समय पतिदेव को बार बार एक ही बात सुनाई दे रही थी – कि कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे!

उसने हज़ार कसमें खाईं कि भविष्य में ऐसी भूल नहीं होगी और हज़ारों बार माफ़ी भी मांगी. लेकिन इतनी देर में पिटाई पर्याप्त मात्रा में संपन्न हो चुकी थी. अब बाकी मामला थाने में संपन्न हो रहा है.

आप से हम तो यही कहेंगे कि भाई गलती मत करो और अगर करो तो फिर तैयार रहो कि जिस दिन खुलेगी कलाई – लगेगा जोर का झटका जोर से – इसलिये आज का सबक है -कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे!